राहुल की फटकार पर भी नहीं झुके कमलनाथ

'आइटम' बयान देने के लिए कमलनाथ को नोटिस
Share

वायनाड/भोपाल  (एजेंसी)। लगता है मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने ‘आइटम’ बयान को प्रतिष्ठा का विषय बना लिया है। शायद यही कारण है कि उन्होंने पार्टी के शीर्ष नेता राहुल गांधी की नाराजगी को भी तवज्जो नहीं देकर ‘उनका अपना विचार’ बता दिया और पूरे मामले से फिर से पल्ला झाडऩे की कोशिश की।

वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने कमलनाथ के बयान की आलोचना करते हुए कहा कि जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल कमलनाथ ने किया, वह उन्हें बिल्कुल पसंद नहीं है। राहुल ने इस वाकये को दुर्भाग्यपूर्ण बताया। कमलनाथ ने राहुल के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह उनकी राय है और वह माफी नहीं मांगेंगे। वायनाड में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राहुल गांधी से जब कमलनाथ के आपत्तिजनक बयान पर प्रतिक्रिया मांगी गई तो उन्होंने कहा, कमलनाथ मेरी पार्टी के हैं, लेकिन व्यक्तिगत रूप से, मुझे उस प्रकार की भाषा पसंद नहीं है जिसका उन्होंने इस्तेमाल किया। मैं इसकी सराहना नहीं करता, चाहे वह कोई भी हो। यह दुर्भाग्यपूर्ण है।

कमलनाथ ने माफी मांगने से किया इनकार

वहीं माफी मांगने की बात पर कमलनाथ ने कहा, मैं क्यों माफी मांगूगा? मैंने कह दिया कि मेरा लक्ष्य नहीं था कि किसी को अपमानित करने का। अगर कोई अपमानित महसूस कर रहा है तो मुझे खेद है। राहुल गांधी की नाराजगी पर कमलनाथ ने मीडिया से कहा, आपको क्यों चिंता है।

भाजपा प्रत्याशी को कहा था ‘आइटम’

बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज सरकार में कैबिनेट मंत्री और डबरा उपचुनाव से भाजपा प्रत्याशी इमरती देवी का नाम न लेते हुए उन्हें ‘आइटम’ कह डाला था। कमलनाथ के भाषण का यह विडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ। कमलनाथ की काफी आलोचना हुई। कमलनाथ ने अपने बयान पर सफाई भी दी।

शिवराज का पलटवार

कमलनाथ की सफाई पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पलटवार किया। शिवराज ने कहा, अब भी आपको (कमलनाथ) इमरती देवी का नाम याद नहीं आया, 24 घंटे पूरे देश ने इमरती देवी को देखा। वो आपके मंत्रिमंडल की सदस्य रही हैं, सीधे-सीधे माफी क्यों नहीं मांगते? और ‘आइटम’ को जायज ठहरा रहे हैं। मैंने कल सोनिया गांधी जी को पत्र लिखा था उसका उत्तर मुझे नहीं मिला है।

शिवराज ने आगे कहा, ये अहंकार है, वो (कमलनाथ) अपने से श्रेष्ठ किसी को नहीं मानते हैं और इसी के कारण तो ये सरकार तबाह हुई क्योंकि इन्होंने प्रदेश को तबाह कर दिया था। कमलनाथ के बयान पर महिला आयोग ने भी कड़ी फटकार लगाई।


Share