पशुपालन विभाग का जॉइंट डायरेक्टर रिश्वत लेते गिरफ्तार, डॉक्टर और कंपाउंडर को भी पकड़ा, 1 लाख 60 हजार रूपए बरामद

joint-director-of-animal-husbandry-department-arrested-taking-bribe
Share

डूंगरपुर (प्रात:काल संवाददाता)।  उदयपुर एसीबी की टीम ने डूंगरपुर पशुपालन विभाग में ट्रेप की कार्रवाई की। टीम ने पशुपालन विभाग के जॉइंट डायरेक्टर, डॉक्टर और कंपाउंडर को 1 लाख 60 हजार रूपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया हैं। 20 बकरी-बकरा यूनिट का बिल पास करने की एवज में रिश्वत की राशि ली गई थी। उदयपुर एसीबी के डीएसपी हेरम्ब जोशी ने बताया कि डूंगरपुर शहर की शास्त्री कॉलोनी के रहने वाले मेसर्स वागड़ गोट एंड पोल्टी फार्म पादरडी के मेनेजिंग डायरेक्टर अभिषेक रावल ने सोमवार को शिकायत की थी। रावल ने बताया था कि डूंगरपुर पशुपालन विभाग की ओर से 11 फरवरी 2022 को 59 गोट यूनिट (एक यूनिट में 5 बकरी व एक बकरा) सप्लाई का टेंडर मिला था। प्रति यूनिट 52 हजार रूपए तय हुआ था।

अधिकारियों ने 20 यूनिट के लिए 1 लाख 60 हजार मांगे

आदेश में पोल्टी फार्म पादरडी ने 59 यूनिट में से 20 यूनिट की सप्लाई कर दी थी। सप्लाई के बाद 21 फरवरी को विभाग ने करीब 10 लाख का भुगतान फर्म को कर दिया। पशुपालन विभाग के अधिकारियों ने प्रति यूनिट 8 हजार मतलब 20 यूनिट के लिए 1 लाख 60 हजार रूपए रिश्वत मांगी।

एसीबी ने बिछाया जाल

शिकायत की पुष्टि के बाद उदयपुर एसीबी ने ट्रेप का जाल बिछाया। टीम ने सीनियर डॉ. जावेद खान को ब्रम्हस्थली घर पर 1 लाख 60 हजार की रिश्वत की राशि लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया। आरोपी ने रिश्वत जॉइंट डायरेक्टर डॉ. उपेन्द्र सिंह महलावत के कहने पर लेना बताया।

जॉइंट डायरेक्टर को रंगे हाथों पकड़ा

इसके बाद एसीबी ने परिवादी व डॉ. जावेद खान को डूंगरपुर पशुपालन विभाग के ऑफिस भेजा। जॉइंट डायरेक्टर ने ये राशि पशुधन सहायक अनिल भगोरा को देने का कहा। रिश्वत की राशि 1 लाख 60 हजार रूपए लेते ही एसीबी ने रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। एसीबी ने जॉइंट डायरेक्टर डॉ. उपेन्द्र सिंह, डॉक्टर जावेद खान व कंपाउंडर अनिल भगोरा को गिरफ्तार कर लिया हैं।


Share