हिंसा की आग में झुलसा जोधपुर, नेटबंदी, कफ्र्यू – झंडा लगाने को लेकर हुआ था विवाद

जयपुर सहित कई शहरों में लगेगा रात्रि कफ्र्यू
Share

जोधपुर (कार्यालय संवाददाता)।  जोधपुर में सोमवार देर रात शुरू हुआ विवाद सुबह भीतरी शहर की तंग गलियों तक पहुंच गया। भीतरी शहर के 14 से ज्यादा मोहल्लों में जमकर पत्थरबाजी, आगजनी, लूटपाट जैसी घटनाएं हुई। पुलिस को लाठीचार्ज एवं आंसू गैस के गोले छोडऩे पड़े। हालात यह हो गए कि शहर में आखा तीज और ईद जैसे त्योहार पर पुलिस को 10 थाना क्षेत्रों में कफ्र्यू लगाना पड़ा। वहीं, जिले में मंगलवार रात 12 बजे तक इंटरनेट बंद किया गया है। सूरसागर विधायक सूर्यकांंता व्यास ने इस बात का दावा किया है कि जालोरी गेट चौराहे से ही एक मामूली बात को लेकर हिंसा फैलाई गई थी।  जोधपुर में दो दिन पहले परशुराम जयंती समारोह पर जालोरी गेट चौराहे पर भगवा झंडा लगाया गया था। इसके बाद इसे उतार दिया गया। जालोरी गेट चौराहे पर ही स्वतंत्रता सेनानी बालमुकुंद बिस्सा की प्रतिमा लगी है। मंगलवार को ईद के मौके पर धर्म विशेष की ओर से देर रात झंडा लगाया जा रहा था। आरोप था कि झंडा लगाने के साथ ही उन्होंने बालमुकुंद बिस्सा की प्रतिमा को ढंक दिया था। इसी दौरान वहां मौजूद युवक पहुंचे और उन्हें टोका। साथ ही, वे वीडियो बनाने लगे। इस पर दूसरे समुदाय के लोगों ने अचानक हमला कर दिया। इसकी सूचना मिलते ही भीतरी शहर से कुछ लोग आए और हमला कर दिया। बाद में पुलिस ने समझाईश कर मामला शांत कराया।

प्लानिंग के साथ आए उपद्रवी

मंगलवार सुबह इस घटना प्लानिंग के साथ आए उपद्रवियों ने जमकर उत्पात मचाया। तेजाब से भरी बोतलें घरों पर फेंकी। दहशत फैलाने के लिए तलवारें लहराई। कबूतरों का चौक में युवक की पीठ पर चाकू से हमला कर दिया। युवक को महात्मा गांधी हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां ऑपरेशन कर चाकू निकाला गया। शहर के 14 से ज्यादा मोहल्लों में उपद्रवियों ने मंगलवार को जमकर उत्पात मचाया और पत्थरबाजी की। जालोरी गेट से शुरू हुआ विवाद शहर की तंग गलियों तक पहुंच गया। (शेष पेज ८ पर)

यहां पहले जालप मोहल्ला में विधायक के घर के बाहर दो बाइक को आग लगा दी गई। दंगाई यहां से सोनारों का बास मोहल्ले में पहुंचे। बाइक पर धार्मिक नारों के साथ रैली निकाली। इस बीच सोनारों का मोहल्ला में तलवार लहराते हुए उपद्रवी पहुंचे। यहां के लोगों ने बताया कि उपद्रवियों ने तेजाब से भरी बोतलें उनके घरों पर फेंकी। इस दौरान नकाबपोश युवकों ने हमला बोल दिया और पत्थरबाजी की। महिलाओं ने बताया कि उनके साथ छेडख़ानी भी की गई। इसके बाद मौके पर भीड़ जमा हो गई और स्थानीय लोग भी डंडे लेकर सड़कों पर उतरे। वाहनों में तोडफ़ोड़ की और करीब 10 से ज्यादा एटीएम बूथ तोड़ दिए।

आधा दर्जन पुलिसकर्मी घायल हुए

उपद्रवियों को रोकने तैनात पुलिस अधिकारी व जवान भी घायल हो गए। उपद्रवियों ने पुलिस के कई वाहनों में तोडफ़ोड़ की। उपद्रवियों के रास्ते में आ रही पुलिस को हटाने के लिए उन्होंने पथराव शुरू कर दिया। इसमें डीसीपी भुवन भूषण यादव, एसएचओ अमित सिहाग सहित आधा दर्जन जवान घायल हो गए। कुछ मीडियाकर्मी भी पथराव में घायल हुए।

९७ लोगों को हिरासत में लिया

घटनाक्रम के बाद मंगलवार शाम प्रभारी मंत्री सुभाष गर्ग, एसीएस होम अभय कुमार और एडीजी लॉ एंड ऑर्डर हवा सिंह घुमरिया जोधपुर पहुंचे। गर्ग ने बताया कि अभी तक इस मामले में रात 10 बजे तक ९७ लोगों को हिरासत में लिया है।

सीएम ने की शांति की अपील

इधर जयपुर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने जन्मदिन के सभी कार्यक्रम रद्द कर हाईलेवल मीटिंग भी बुलाई। मुख्यमंत्री ने सभी से शांति बनाए रखने की अपील की है। वहीं, दो मंत्रियों और दो वरिष्ठ अधिकारियों को हेलिकॉप्टर से तुरंत जोधपुर भेजा।


Share