उदयपुर संभाग में झमाझम – टीडी डेम पर चली चादर, भंवरमाता एनिकट छलकने को आतुर

बदला मौसम : राजस्थान के कई जिलों में बारिश
Share

नगर संवाददाता . उदयपुर। झीलों की नगरी उदयपुर सहित पूरे संभाग में शुक्रवार को झमाझम बारिश का दौर देर रात तक चलता रहा। लगातार तीसरे दिन बारिश से शहर के समीप टीडी डेम, सांडोल माता एनिकट सहित कई छोटे एनिकट छलक गई। कई जगह पहाड़ों से झरनों ने आकर्षक मंजर पेश किए। इस पर तीन इंच की चादर चल रही है। कैचमेंट एरिया में अच्छी बारिश से अब शहर की झीलों के छलकने की उम्मीद जगी है। बाढ़ नियंत्रण कक्ष के अनुसार शुक्रवार सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक जयसमंद में 85 मिमी, उदयसागर पर 70 मिमी, वल्लभनगर में 58 मिमी, गोगुंदा में 45 मिमी बारिश दर्ज की गई। उदयपुर शहर में पौन इंच बारिश हुई।  इसके अलावा कई जगह डेढ़ से दो इंच बारिश हुई।

सीसारमा का जल स्तर 2 फीट का छूता हुआ नजर आया। मदार बड़ा तालाब भी 20 फीट के स्तर पर पहुंच गया। इसकी कुल क्षमता 24 फीट है। उदयसागर का जल स्तर 17.4 फीट हो गया है। पिछोला झील डेढ़ फीट खाली है। देवास का जल स्तर 17.6 फीट तक पहुंचा है। बारिश के दौरा उदयपुर शहर के कानपुर में एक जर्जर पानी की टंकी की सीढिय़ां भरभरा कर गिर गईं। बारिश के दौरान  कोटड़ा के पडुना में कच्चा मकान ढह गया। यहां आकाशीय बिजली गिरने से महिला घायल हो गई जबकि तीन बकरियों की मौत हो गई। इधर, कोटड़ा के बुढिय़ा गांव में आकाशीय बिजली गिरने से दो मवेशियों की मौत हो गई। छोटीसादड़ी में भंवरमाता एनिकट छलकने को आतुर है, तालाब लबालब हो चुका है। यहां 24 घंटे में 125 मिमी बारिश दर्ज की गई।

चित्तौडग़ढ़ में बारिश से कलक्ट्रेट परिसर में पानी भर गया। डूंगरपुर में एक घंटे की बारिश में सड़कें दरिया बन गईं। राजसमंद में भी रूक-रूक कर बारिश का दौर चला। यहां 28 मिमी बारिश हुई। उदयपुर के सीमलवाड़ा में बारिश के चलते स्कूल की छत ढह गई। निम्बाहेड़ा में श्री सुखानंद महादेव में 71 फीट की ऊंचाई से जल प्रपात ने मनोरम नजारा पेश किया। मौसम विभाग ने मेवाड़ा व वागड़ में तीन दिन तक झमाझम बारिश की भविष्यवाणी की है।


Share