दिल्ली के मैदान पर बेदी को मंजूर नहीं जेटली की स्टैच्यू

दिल्ली के मैदान पर बेदी को मंजूर नहीं जेटली की स्टैच्यू
Share

-कोटला स्टेडियम के स्टैंड से अपना नाम हटाने को कहा

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारत के पूर्व स्पिनर बिशन सिंह बेदी ने फिरोजशाह कोटला (अरूण जेटली स्टेडियम) में दिल्ली डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन (डीडीसीए) के पूर्व अध्यक्ष अरुण जेटली की प्रतिमा लगाए जाने पर नाराजगी जाहिर की है। बेदी ने अरूण जेटली के पुत्र और वर्तमान डीडीसीए अध्यक्ष रोहन जेटली को पत्र लिखकर अपने नाम की स्टैंड को हटाने की मांग की। साथ ही डीडीसीए की सदस्यता से भी त्यागपत्र देने की भी घोषणा की। 2017 में कोटला के एक स्टैंड का नाम बेदी के सम्मान में बिशन सिंह बेदी स्टैंड किया गया था। इसी दौरान मोहिंदर अमरनाथ के नाम पर भी एक स्टैंड बनाया गया था।

14 साल डीडीसीए प्रेसिडेंट रहे जेटली

जेटली का पिछले साल निधन हो गया था। इसके बाद फिरोज शाह कोटला स्टेडियम का नाम बदलकर अरूण जेटली स्टेडियम कर दिया गया था। यहां जेटली की एक 6 फुट ऊंची प्रतिमा लगाने का फैसला भी किया गया था। भाजपा के बड़े नेता और केंद्रीय मंत्री रहे जेटली 1999 से 2013 तक डीडीसीए के भी अध्यक्ष रहे थे। उनके बाद रजत शर्मा डीडीसीए प्रेसिडेंट बने। उन्होंने इस्तीफा दिया तो जेटली के बेटे रोहन को निर्विरोध अध्यक्ष चुना गया था।

डीडीसीए में जो चल रहा है, उससे डरा हुआ हूं : बेदी

बेदी ने रोहन जेटली को लिखे पत्र में कहा, मैं धैर्यवान और सहनशील व्यक्ति हूं। मुझे इस पर गर्व है। लेकिन डीडीसीए में जो कुछ चल रहा है, उससे मैं डरा हुआ हूं। मजबूरी में यह कदम उठा रहा हूं। आपसे गुजारिश है कि स्टेडियम में मेरे नाम से जो स्टैंड है, उसे हटा दिया जाए। मेरी मेंबरशिप भी फौरन खत्म करें।

बेदी ने आगे लिखा, मैने यह फैसला सोच समझकर लिया है। मुझे ऐसा नहीं लगता कि मेरे सम्मान को ठेस पहुंचाई जा रही है, लेकिन सम्मान के साथ जिम्मेदारी भी बढ़ जाती है। उन सभी का शुक्रिया जिन्होंने मुझे और मेरे खेल को सम्मान दिया। अब मैं यह सम्मान वापस कर रहा हूं। मैं यह बताना चाहता हूं कि रिटायरमेंट के 40 साल बाद भी मैंने अपनी वैल्यूज कायम रखी हैं।

अरूण जेटली अच्छे नेता

बेदी ने पत्र में लिखा- जब फिरोजशाह कोटला स्टेडियम का नाम बदल कर अरूण जेटली के नाम पर किया गया तो मुझे लगा कि अब कुछ अच्छा होगा। लेकिन मैं गलत था।। मैं यह नहीं समझ पा रहा हूं कि कोटला में उनकी प्रतिमा क्यों लगाई जा रही है। वे अच्छे नेता थे। उन्हें संसद में सम्मान दिया जाना चाहिए। वे अच्छे एडमिनिस्ट्रेटर नहीं थे।

टेस्ट में ले चुके हैं 266 विकेट

बेदी ने भारत के लिए 67 टेस्ट और 10 वनडे मैच खेले। 67 टेस्ट मैचों में बेदी ने 266 विकेट और 10 वनडे में 7 विकेट लिए थे।


Share