इंटेलीजेंस ने भी माना आतंकियों की तरह किया विस्फोट

Intelligence also accepted the blast like terrorists
Share

एडीजी इंटेलीजेंस और एडीजी एटीएस ने किया घटना स्थल का निरीक्षण

उदयपुर. नगर संवाददाता & उदयपुर-अहमदाबाद रेल्वे ट्रेक पर ओडा पुल पर हुए विस्फोट को लेकर इंटेलीजेंस ने भी यह स्वीकार कर लिया है कि विस्फोट का स्टाईल आतंकियों की तरह था और विस्फोट करने वालों का सीधा उद्देश्य ट्रेन को नुकसान पहुँचाना था ताकी एक बड़ी रेल दुर्घटना होकर बड़ी जनहानि हो सके। मंगलवार को प्रदेश के इंटेलीजेंस के एडीजी अशोक राठौड़ और एटीएस के एडीजी एस सेंगाथिर उदयपुर आए और घटनास्थल का निरीक्षण किया और अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए। साथ ही इन अधिकारियों ने स्थानीय अधिकारियों को विशेष टिप्स भी दी। शीघ्र ही प्रदेश की विभिन्न सुरक्षा ऐजेन्सियों और केन्द्र की विभिन्न सुरक्षा ऐजेन्सियों के अधिकारियों के बीच एक बैठक होगी और इस विस्फोट पर चर्चा की जाएगी।

उदयपुर-अहमदाबाद रेल्वे ट्रेक पर ओडा पुल पर हुए विस्फोट के बाद उदयपुर में लगातार सुरक्षा ऐजेन्सियों के अधिकारियों का आना-जाना लगा हुआ है। राज्य सरकार के निर्देश पर गुरूवार को प्रदेश के इंटेलीजेंस के एडीजी अशोक राठौड़ और एटीएस के एडीजी एस सेंगाथिर उदयपुर आए। ये अधिकारी अपने विभागों के अधिकारियों के साथ ओड़ा पुल पर पहुँचे और वहां पर मौका-निरीक्षण किया। करीब दो से तीन घंटे तक लगातार दोनों अधिकारियों ने मौका निरीक्षण का बारीकी से निरीक्षण किया और अधिकारियों से चर्चा की। एडीजी राठौड़ ने अब तक एटीएस द्वारा की गई जांच के बारे में भी पूछा। इस पर एएसपी अनंत कुमार ने विस्तार से अब तक मिले सबूत और उसकी संभवानाओं के बारे में बताया। इसके बाद सराड़ा डीएसपी राजेन्द्रसिंह, जावरमाइंस थानाधिकारी अनिल विश्नोई सहित कुछ अधिकारियों को कुछ निर्देश देकर मौके से रवाना कर दिया।

इन अधिकारियों ने कहा कि हमला को पूरी प्लानिंग के तहत किया गया। इसका निशाना ट्रेन और ट्रेन में बैठे सैकड़ों पैसेंजर थे। स्थानीय लोगों की करतूत की संभावनाओं को उन्होंने कम बताते हुए कहा कि ब्लास्ट के बाद मिले सबूतों को देखते हुए प्राथमिक तौर पर इसे आतंकी हमला कहा जा सकता है। मीडिया से बात करते हुए अशोक राठौड़ ने कहा कि इस केस पर चल रही जांच और क्या संभावनाएं हो सकती है, इस पर अभी तक केवल मौके पर ही बातचीत की गई है। अभी कई सवाल हैं। इनके बारे में जानकारी मिलने के बाद स्थिति स्पष्ट होगी। मौकास्थल को देखते हुए ये तो लगभग स्पष्ट है कि ये हमला प्लानिंग के तहत किया गया।

इंटलिजेंस के एडीजी एस सेंगथीर ने कहा कि इस मामले में जांच जारी है। कुछ बता पाना जल्दबाजी विस्फोट की इंटेंसिटी और जो हालात उसे देखकर ये आतंकी घटना ही मानी जा सकती है। विस्फोट के पीछे डर और आंतक के साथ जनहानि करना ही इन लोगों का उद्देश्य था। इस हमले के पीछे संगठन या ग्रुप का हाथ है। ये अभी नहीं कहा जा सकता।

सिटी स्टेशन पर डॉग स्क्वायड से विशेष जांच

उदयपुर-अहमदाबाद ट्रेन मंगलवार को भी उसी ट्रैक से होते हुए उदयपुर पहुंची। रेलवे अधिकारियों के निर्देश पर सिटी रेलवे स्टेशन पर डॉग स्कवायड से चेकिंग हुई। स्टेशन के कोने-कोने पर चेकिंग की गई और कई जगहों से खस्ताहाल सामान को भी हटाया गया।

आतंकी निशाने पर था उदयपुर?

ओड़ा से 70 किमी दूर सोम नदी में मिली दो क्विं. जिलेटिन की छड़ें

उदयपुर. नगर संवाददाता & उदयपुर-अहमदाबाद रेल्वे ट्रेक पर ओड़ा रेलवे पुल पर गत दिनों हुए विस्फोट में आतंकी हमला की साजिश ओर भी गहरी होती जा रही है। घटना के तीसरे दिन ओडा पुल से करीब 70 किमी दूर आसपुर थाना क्षेत्र में सोम नदी जिलेटिन मिली, जिन्हें पुलिस ने बाहर निकलवाकर कट्टो में भरवाई तो यह 7 कट्टों में आई, जिनका वजन करीब 185 किलो है। ये कट्टे डूंगरपुर जिले के गडा नाथजी के पास सोम नदी पर बने भबराना पुल के नीचे से बरामद हुए हैं। आम तौर पर जिलेटिन का उपयोग ब्लास्ट में किया जाता है। इतनी भारी मात्रा में जिलेटिन मिलने के बाद से ही पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों में हड़कंप मच गया और सूचना मिलते ही आसपुर डीएसपी कमल कुमार और सलूम्बर डिप्टी सुधा पालावत मौके पर पहुंचे। जानकारी के अनुसार आसपुर से दस किमी दूर भबराना गांव से आगे आसपुर में सोम नदी पर बने पुल के पास कुछ ग्रामीणों ने नदी में कार्टून तैरते हुए देखे तो ग्रामीणों ने शंका के आधार पर इस बारे में आसपुर थाना पुलिस को सूचना दी, जिस पर मौके पर थाने से जाब्ता पहुँचा और पुलिस ने पानी उतरकर कार्टून को बाहर निकाला तो यह पानी में होने के कारण गल गए थे, इस पर पुलिस ने कट्टों में जिलेटिन की छड़ों को एकत्रित किया। करीब 7 कट्टों में जिलेटिन की छड़े भरी गई, जिनका वजन किया गया तो इनका वजन 185 किलो निकला। पुलिस टीम भी इतनी भारी मात्रा में विस्फोटक देखकर हैरान रह गई। इस पर उच्चाधिकारियों को बताया गया। पुलिस इसमें जुट गई है कि आखिरकार ये जिलेटिन की छड़े यहां पर कौन फेंक कर गया है। आसपुर एसएचओ सवाई सिंह ने बताया कि जिलेटिन की छड़ों को जब्त कर लिया है।


Share