चुनाव बाद फूटा महंगाई का बम, पेट्रोल 88 डीजल 81 पैसे, रसोई गैस सिलेण्डर 50 रूपए महंगा, कॉमर्शियल उपयोग का सिलेण्डर 8 रूपए सस्ता हुआ

Rs 200 subsidy on cooking gas, 9 crore people benefit
Share

जयपुर/उदयपुर (कार्यालय संवाददाता)। पिछले दिनों हुए 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव पूरे होने के बाद अब केन्द्र सरकार ने एक बार फिर पेट्रोल-डीजल और गैस की कीमतों में इजाफा शुरू कर दिया है। तेल-गैस कंपनियों ने करीब 140 दिन बाद पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी की है। वहीं रसोई गैस की कीमतों में 50 रुपए प्रति सिलेण्डर का इजाफा किया है। रसोई गैस की कीमतों में भी 5 महीने बाद इजाफा किया है। इससे पहले सरकार ने उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखण्ड, गोवा और मणिपुर राज्य में प्रस्तावित विधानसभा चुनावों को देखते हुए पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस की कीमतों में 31 अक्टूबर 2021 के बाद से बढ़ोतरी को रोक दिया है।

कंपनियों की ओर से की गई इस बढ़ोतरी को देखते हुए आज  मंगलवार से एक लीटर पेट्रोल की कीमत उदयपुर में 108.74 रुपए और डीजल की कीमत 91.53 रुपए प्रति लीटर हो गई। वहीं रसोई गैस की कीमतों में 50 रुपए प्रति सिलेण्डर का इजाफा होने के बाद 22 मार्च से ये बाजार में 930.50 की जगह 980.50 रुपए में मिलेगा। हालांकि कॉमर्शियल उपयोग के गैस सिलेण्डर की कीमतों में 8 रूपए की कमी की गई है। इस बदलाव के बाद 22 मार्च से कॉमर्शियल सिलेण्डर बाजार में अब 2026 रुपए की जगह 2018 रुपए में मिलेगा।

गौरतलब रहे कि एक दिन पहले ही सरकार ने डीजल की थोक कीमत में 25 रुपए का इजाफा किया था। हालांकि इसका असर रिटेल पेट्रोल विक्रेताओं पर नहीं पड़ा था। इसका असर उन ग्राहकों पर पड़ा था जो सीधे तेल कंपनियों से बल्क में डीजल खरीदते है।


Share