बीएसएफ हेडक्वार्टर अमृतसर में अंधाधुंध गोलीबारी – जवान ने 4 साथियों की हत्या कर सुसाइड किया

बीएसएफ हेडक्वार्टर अमृतसर में अंधाधुंध गोलीबारी - जवान ने 4 साथियों की हत्या कर सुसाइड किया
Share

अमृतसर (एजेंसी)। पंजाब के अमृतसर जिले में बीएसएफ (बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स) हेडक्वार्टर में रविवार सुबह एक जवान ने मेस में ताबड़तोड़ गोलियां बरसाईं। फायरिंग में 4 जवानों की मौत हो गई है और 2 गंभीर रूप से घायल हैं। वहीं फायरिंग करने वाले जवाने ने कुछ समय बाद खुद को भी गोली मार ली। अस्पताल ले जाते हुए उसकी भी मौत हो गई। फायरिंग करने वाले जवान की पहचान बटालियन 144 के कांस्टबेल सत्यप्पा के रूप में हुई है। फायरिंग की वजह ड्यूटी का विवाद बताया जा रहा है।

जानकारी के अनुसार खासा स्थित बीएसएफ हेडक्वार्टर की मेस में बटालियन 144 के जवान नाश्ता कर रहे थे। इस दौरान बटालियन 144 के कॉन्स्टेबल सत्यप्पा गुस्से में तमतमाते हुए आया और अंधाधुंध फायरिंग करने लगा। बताया गया है कि सत्यप्पा ड्यूटी को लेकर नाराज चल रहा था। इस घटना से हेडक्वार्टर में हड़कंप मच गया। मैस में गोलिया चलाकर सत्यप्पा ने अपने 4 साथियों को मौत के घाट उतार दिया। जबकि एक जवान राहुल गंभीर घायल हो गया। सत्यप्पा इतने पर भी नहीं रूका। अपनी सर्विस कम्बाइन लेकर मैस से बाहर भागा और लगातार गोलियां चलाता गया।

पकड़े जाने के डर से खुद को मार दी गोली

अंत में पकड़े जाने के डर से सत्यप्पा ने खुद को भी गोली मार ली। चार जवानों की मौत घटनास्थल पर ही हो गई। जबकि कॉन्स्टेबल सत्यप्पा और 1 अन्य घायल जवानों को आनन-फानन में अस्पताल लाया गया। सत्यप्पा ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। गुरू नानक देव अस्पताल में डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। वहीं दूसरे घायल कांस्टेबल का इलाज अभी चल रहा है, लेकिन हालत गंभीर बनी हुई है।

पागलों की तरह गोलियां चला रहा था सत्यप्पा

घायल जवान राहुल की मां उमा देवी भी गुरू नानक देव अस्पताल पहुंच गई। उसके आंसू थम नहीं रहे। उमा देवी ने बताया कि सत्यप्पा पागल हो गया था और हर जगह पागलों की तरह उसने फायरिंग कर दी। जो उसके सामने आया, भूनता गया। इसी में उसके बेटे जवान राहुल को भी गोलियां लग गई। मौके पर मृतक जवानों के परिजन और बीएसएफ के आलाधिकारी पहुंच गए हैं। पुलिस ने भी मौके पर पहुंच जांच शुरू कर दी है। फिलहाल बीएसएफ के अधिकारी इस पूरी घटना पर चुप्पी साधे हुए हैं।


Share