भारत ने किया रूद्रम-1 का परीक्षण

भारत ने किया रूद्रम-1 का परीक्षण
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारत ने शुक्रवार को सफलतापूर्वक लड़ाकू विमान सुखोई-30 से रूद्रम-1 एंटी रेडिएशन मिसाइल का सफल परीक्षण किया। इस मिसाइल को डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन ने तैयार किया है। यह मिसाइल हवा में भारतीय लड़ाकू विमान की मारक क्षमता को बढ़ाएगी और टैक्टिकल कैपेबिलिटी को भी बढ़ाएगी। सूत्र ने बताया कि इस मिसाइल की लाउंच स्पीड आवाज से भी दोगुनी है। डीआरडीओ ने नई पीढ़ी के हथियार विकसित किए हैं। इसका सुबह साढे दस बजे ओडिशा तट पर परीक्षण किया गया।

डीआरडीओ के सफलतापूर्वक परीक्षण पर एक अधिकारी सूत्र ने बताया कि यह एक बड़ी सफलता है। उन्होंने कहा कि इससे भारतीय वायुसेना को दुश्मन के एयर डिफेंस सिस्टम को काफी अंदर जाकर उसे नष्ट करने की क्षमता हो गई है। भारत में बनाई गई ये ऐसी पहली मिसाइल है, जो किसी भी ऊंचाई से दागी जा सकती है। ये मिसाइल किसी भी तरह के सिग्नल और रेडिएशन को पकड़ सकती है। साथ ही अपनी रडार में लाकर ये मिसाइल नष्ट कर सकती है। इससे पहले, भारत ने देश में विकसित ‘सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज ऑफ टॉरपीडो’ (स्मार्ट) प्रणाली का सोमवार को ओडिशा अपतटीय क्षेत्र स्थित एक परीक्षण केंद्र से सफल प्रायोगिक परीक्षण किया। रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि ‘स्मार्ट प्रणाली पनडुब्बी’ विध्वंसक युद्ध अभियानों के लिए है।


Share