‘भारत दुख में है… लेकिन रूकेगा नहीं, थमेगा नहीं’- सीडीएस जहां भी होंगे, हमें बढ़ते देखेंगे : प्र.म.

Share

बलरामपुर (एजेंसी)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूपी के बलरामपुर में बेहद भावुक अंदाज में कहा कि भारत दुख में है। उन्होंने 8 दिसंबर के हेलिकॉप्टर हादसे में मारे गए सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी के अलावा अन्य 11 फौजी जांबाजों के निधन का जिक्र करते हुए कहा कि देश इस दर्द को सहते हुए भी आगे बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि जनरल बिपिन रावत जहां भी होंगे, वो देश की प्रगति के साक्षी बनेंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार और देश की जनता और अधिक मेहनत करके भारत को ताकतवार और समृद्धशाली बनाएंगे। प्र.म. मोदी ने बलरामपुर में सरयू कनाल नैशनल प्रॉजेक्ट का उद्घाटन समारोह में जुटी हजारों की भीड़ को संबोधित करते हुए कहा, भारत दुख में है, लेकिन दर्द सहते हुए भी हम ना अपनी गति रोकते हैं और ना हमारी प्रगति। भारत रूकेगा नहीं, भारत थमेगा नहीं। मोदी ने कहा, जनरल बिपिन रावत आने वाले दिनों में अपने भारत को नए संकल्पों के साथ, वे जहां होंगे, वहां से भारत को आगे बढ़ते हुए देखेंगे। देश की सीमाओं की सुरक्षा बढ़ाने का काम, बॉर्डर इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने का काम, देश की सेनाओं को आत्मनिर्भर बनाने का अभियान, तीनों सेनाओं में तालमेल सुदृढ़ करने का अभियान, ऐसे अनेक काम तेजी से आगे बढ़ते रहेंगे। उन्होंने कहा, हम भारतीय मिलकर और मेहनत करेंगे, देश के भीतर और देश के बाहर बैठी हर चुनौती का मुकाबला करेंगे। भारत को और शक्तिशाली और समृद्ध बनाएंगे।

वीरों की धरती से श्रद्धांजलि दे रहा हूं : मोदी

प्रधानमंत्री ने हादसे में प्राणों का बलिदान देने वाले जांबाजों को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा, राष्ट्र निर्माताओं और राष्ट्र रक्षकों की इस धरती से मैं आज देश के उन सभी वीर योद्धाओं को भी श्रद्धांजलि दे रहा हूं जिनका 8 दिसंबर को हेलिकॉप्टर हादसे में निधन हो गया। भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत जी का जाना हर भारतप्रेमी के लिए, हर राष्ट्रभक्त के लिए बहुत बड़ी क्षति है। जनरल बिपिन रावत जी जितने जांबांज थे, देश की सेनाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जितनी मेहनत करते थे, पूरा देश उसका साक्षी रहा है।

प्र.म. ने बताई सैनिकों की शक्ति

प्र.म. मोदी ने कहा कि कोई सैनिक सेना में रहने तक ही सैनिक नहीं रहता है, वो जीवनभर सैनिक रहता है। उसका पूरा जीवन एक योद्धा की तरह होता है। देश की आन-बान-शान के लिए वो हर पल समर्पित होता है। उन्होंने गीता के श्लोक का हवाला देकर कहा, गीता में कहा गया है- नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावक:। ना शस्त्र उसे छिन्न-भिन्न कर सकते हैं, ना अग्नि उसे जला सकती है।

ग्रुप कैप्टन की जिंदगी की दुआ

प्रधानमंत्री ने हादसे में जिंदा बचे एकमात्र जांबाज ग्रुप कैप्टन वरूण सिंह के स्वस्थ होने की कामना की। मोदी ने कहा, यूपी के सपूत, देवरिया के रहने वाले ग्रुप कैप्टन वरूण सिंह जी का जीवन बचाने के लिए डॉक्टर जी-जान से लगे हुए हैं। मैं मां पाटेश्वरी से उनके जीवन की रक्षा की प्रार्थना करता हूं। देश आज वरूण सिंह जी के परिवार के साथ है, जिन वीरों को हमने खोया है, उनके परिवारों के साथ है।


Share