भारत ने पारी घोषित करने में कर दी देरी? द्रविड़ सहमत नहीं

Share

कानपुर (एजेंसी)। भारतीय टीम कानपुर टेस्ट मैच जीतने से सिर्फ एक विकेट दूर रह गई। नतीजा, न्यूजीलैंड टीम ने शानदार तरीके से मैच ड्रॉ करवा लिया। भारत ने मौका गंवाया इसके लिए चौथे दिन टीम की धीरे बल्लेबाजी को भी जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। टीम के मुख्य कोच राहुल द्रविड़ हालांकि इससे सहमत नहीं हैं।

न्यूजीलैंड ने पांचवें दिन का खेल खत्म होने तक नौ विकेट खोए थे। इस वजह से मैच ड्रॉ रहा। रचिन रविंद्र (91 गेंद पर नाबाद 18 रन) और एजाज पटेल (33 गेंद पर 2 रन) ने आखिरी विकेट के लिए 8.4 ओवर बल्लेबाजी की और टीम को हार से बचा लिया। भारतीय टीम हालांकि जीत से महरूम रह गई लेकिन कोच राहुल द्रविड़ ने यह मानने से इनकार कर दिया कि भारत ने पारी घोषित करने में थोड़ी देर कर दी।

द्रविड़ ने मैच के बाद वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, मेरी खेल की समझ ऐसा नहीं कहती। पारी घोषित करने से आधा घंटा पहले हम दबाव में थे। उस समय तीनों नतीजे संभव थे। ऋद्धिमान साहा ने कमाल का जज्बा और हिम्मत दिखाई और गर्दन में अकडऩ होने के बाद भी बल्लेबाजी की। अगर हमने तीन-चार विकेट जल्दी खो दिए होते तो न्यूजीलैंड को 110 ओवरों में 240-250 रन का लक्ष्य हासिल करना होता। यह बामुश्किल 2.2 या 2.3 रन प्रति ओवर ही होता। द्रविड़ ने कहा कि भारतीय टीम ने अपनी दूसरी पारी हिसाब लगाकर घोषित की। टीम ने पूरा हिसाब लगाया कि अब खतरे का वक्त टल गया है और उसके बाद ही उसने पारी घोषित की।

द्रविड़ ने कहा, हमें उस साझेदारी (साहा और अक्षर पटेल) की जरूरत थी। चाय से ठीक पहले श्रेयस अय्यर आउट हुए थे। इसके बाद हमारी साझेदारी हुई। हम 167/7 से 234/7 तक पहुंचे। यह बहुत जरूरी था। जैसा आपने देखा, यह विकेट बिलकुल सपाट थी। अगर यह स्पिन हो रही होती और इसमें उछाल होता, तो हालात बिलकुल अलग होते।


Share