कानपुर टेस्ट चौथा दिन & भारत ने दूसरी पारी 234/7 रनों पर घोषित कर न्यूजीलैंड को दिया 284 रनों का लक्ष्य

India declared the second innings at 234/7 and set a target of 284 runs for New Zealand.
Share

अश्विन ने न्यूजीलैंड को 4 रन पर दिया पहला झटका, आखिरी दिन भारत को 9 विकेट एवं न्यूजीलैंड को 280 रनों की जरूरत

दूसरी पारी में भारत की ओर से श्रेयस और साहा ने लगाया अर्धशतक, अक्षर-अश्विन की भी शानदार बल्लेबाजी

कानपुर (एजेंसी)। भारत और न्यूजीलैंड के बीच कानपुर में खेला जा रहा पहला टेस्ट रोमांचक स्थिति में पहुंच चुका है। भारत ने कीवी टीम को 284 रनों का लक्ष्य दिया है। इसके जवाब में न्यूजीलैंड एक विकेट गंवा चुका है। चौथे दिन का खेल समाप्त होने तक कीवी टीम ने एक विकेट गंवाकर चार रन बना लिए हैं। आखिरी दिन न्यूजीलैंड को 90 ओवर में 280 रन की जरूरत है।

फिलहाल टॉम लाथम 2 रन और विलियम सोमरविले 0 बनाकर क्रीज पर हैं। भारत ने पहली पारी में 345 रन बनाए थे। वहीं, न्यूजीलैंड ने पहली पारी में 296 रन बनाए थे। दूसरी पारी भारत ने सात विकेट पर 234 रन बनाकर घोषित कर दी। इस तरह कीवी टीम को 284 रन का लक्ष्य मिला।

भारत ने चौथे दिन छह विकेट गंवाए

भारत ने चौथे दिन एक विकेट पर 14 रन से आगे खेलना शुरू किया। भारत को रविवार को चेतेश्वर पुजारा के रूप में पहला झटका लगा। वे 22 रन बनाकर काइल जेमीसन की गेंद पर पवेलियन लौटे। इसके बाद कप्तान अजिंक्य रहाणे (4), मयंक अग्रवाल (17) और रवींद्र जडेजा (0) भी कुछ खास नहीं कर सके। जडेजा पांचवीं बार टेस्ट क्रिकेट में शून्य पर आउट हुए।

श्रेयस ने फिर खेली शानदार पारी

पिछली पारी के शतकवीर (105) श्रेयस अय्यर ने इस पारी में फिर शानदार बल्लेबाजी की और रविचंद्रन अश्विन के साथ मिलकर पारी संभाली। दोनों के बीच छठे विकेट के लिए 52 रन की साझेदारी हुई। श्रेयस ने इस बीच लगातार दूसरी पारी में 50 प्लस का स्कोर बनाया। उन्होंने 109 गेंदों पर अपनी फिफ्टी पूरी की। इसके साथ ही अय्यर टेस्ट डेब्यू की दोनों पारियों 50 प्लस का स्कोर बनाने वाले पहले भारतीय भी बन गए। अश्विन (32) के रूप में भारत को छठा झटका लगा।

चोटिल साहा का शानदार खेल

कानपुर टेस्ट के तीसरे दिन ऋद्धिमान साहा गर्दन में खिंचाव के चलते विकेटकीपिंग करने नहीं आए थे, लेकिन भारत की दूसरी पारी में वह बल्लेबाजी करने उतरे  और 115 गेंदों पर अपना अर्धशतक पूरा किया। अनुभवी खिलाड़ी का टेस्ट क्रिकेट में ये छठा और न्यूजीलैंड के खिलाफ तीसरा अर्धशतक रहा। बता दें कि बैटिंग के दौरान साहा गर्दन में दर्द के चलते परेशान थे और मैदान पर फिजियो को भी उनके साथ देखा गया था। न्यूजीलैंड की दूसरी पारी के दौरान भी साहा ने पहले दो ओवर में विकेटकीपिंग की और उसके बाद मैदान से बाहर चले गए और उनके स्थान पर केएस भरत कीपिंग के लिए आए।

साहा-श्रेयस के बीच महत्वपूर्ण साझेदारी

अय्यर (65) साउदी की गेंद पर आउट हुए। आउट होने से पहले उन्होंने ऋद्धिमान साहा के साथ सातवें विकेट के लिए 64 रन की साझेदारी निभाई। इसके बाद अक्षर ने साहा के मिलकर टीम इंडिया की पारी को आगे बढ़ाया। अक्षर और साहा के बीच आठवें विकेट के लिए नाबाद 67 रन जोड़े। साहा 126 गेंदों पर नाबाद 61 रन और अक्षर 67 गेंदों पर 28 रन बनाकर नाबाद रहे।

साउदी और जेमीसन ने 3-3 विकेट लिए

न्यूजीलैंड की ओर से टिम साउदी और काइल जेमीसन ने सबसे ज्यादा 3-3 विकेट लिए। वहीं, एजाज पटेल को एक विकेट मिला। भारत-न्यूजीलैंड के बीच टेस्ट में साउदी 50 विकेट लेने वाले छठे गेंदबाज बने। इसके अलावा वह रिचर्ड हैडली (65) के बाद भारत के खिलाफ 50 टेस्ट विकेट लेने वाले दूसरे कीवी गेंदबाज भी हैं। 283 रन के कुल स्कोर पर कप्तान रहाणे ने दूसरी पारी घोषित करने का एलान किया।

बदकिस्मत रहे न्यूजीलैंड के विल यंग

एक सेकंड की गलती और अपना विकेट गंवा बैठे

टीम इंडिया और न्यूजीलैंड के बीच खेला जा रहा कानपुर टेस्ट में रोमांचक मोड़ पर पहुंच गया है। मैच की दूसरी पारी में न्यूजीलैंड टीम को 284 रन का टारगेट मिला। इसके जवाब में कीवी टीम चौथे दिन बल्लेबाजी करने उतरी तो ओपनर विल यंग का उनकी किस्मत ने साथ छोड़ दिया। या कहें कि अपनी ही गलती से विल यंग जल्दी पवेलियन लौट गए। दरअसल, कानपुर टेस्ट के चौथे दिन न्यूजीलैंड टीम को सिर्फ 4 ओवर खेलने का मौका मिला। टीम ने तीन रन के स्कोर पर ही विल यंग के रूप में पहला विकेट गंवा दिया। तीसरे ओवर की आखिरी बॉल पर स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने उन्होंने एलबीडब्लू किया। इसी दौरान विल यंग ने साथी खिलाड़ी टॉम लाथम से डीआरएस (डिसीजन रिव्यू सिस्टम) लेने के लिए सलाह ली, लेकिन वे अंपायर की ओर डीआरएस लेने का इशारा करते तब तक 15 सेकंड का समय खत्म हो गया था। विल यंग ने सिर्फ एक सेकंड की देरी कर दी थी। यही कारण रहा कि अंपायर ने उनकी अपील नहीं सुनी और उन्हें आउट ही करार दिया। बाद में रिप्ले देखने पर पता चला की बॉल लेग स्टंप के बाहर जा रही थी। यदि विल यंग एक सेकंड पहले डीआरएस ले लेते तो थर्ड अंपायर से उन्हें जीवनदान मिल जाता, लेकिन उन्होंने अपनी ही गलती से विकेट गंवा दिया।


Share