पबजी समेत चीन से जुड़े 118 और मोबाइल ऐप पर भारत ने लगाया प्रतिबंध

पबजी समेत चीन से जुड़े 118 और मोबाइल ऐप पर भारत ने लगाया प्रतिबंध
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर चीन के साथ बढ़ते तनाव के बीच भारत ने बुधवार को मशहूर गेमिंग ऐप पबजी समेत 118 और मोबाइल ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिया। ये ऐप चीन की कंपनियों से जुड़े हुए है। इससे पहले जून में भारत ने टिकटॉक समते 59 चीनी ऐप पर बैन लगाया था। जुलाई में भी चीन से जुड़े 47 मोबाइल ऐप प्रतिबंधित किए गए थे। इस तरह अब तक चीन से जुड़े कुल 224 मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लग चुका है। आइए समझते हैं कि ये ऐप बैन चीन के लिए कितनी बड़ी चोट हैं और इसके जरिए भारत क्या संदेश देना चाहता है।

बुधवार को जिन मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगाया गया उनमें पबजी, पबजी लाइट समेत बायदू, बायदू एक्सप्रेस एडिशन, अलीपे, टेनसेंट वॉचलिस्ट, फेसयू, वीचैट रीडिंग, गवर्नमेंट वीचैट, टेनसेंट वेयुन, आपुस लॉन्चर प्रो, आपुस सिक्यॉरिटी, कट कट, शेयरसेवा बाइ शाओमी और कैमकार्ड जैसे ऐप शामिल हैं। इनमें से ज्यादातर ऐप के भारत में बड़ी तादाद में यूजर्स थे। कई भारतीय युवाओं को तो लोकप्रिय गेमिंग ऐप पबजी की एक तरह से लत लगी हुई है। बात अगर भारत में पबजी ऐप के डाउनलोड की करें तो इसे 5 करोड़ से ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका था। भारत में उसके 3.3 करोड़ ऐक्टिव यूजर थे, जो बहुत बड़ी संख्या है। अब इन पर प्रतिबंधों से चीनी कंपनियों की कमाई सीधे-सीधे प्रभावित होगी। पबजी को वैसे तो एक साउथ कोरियन कंपनी ने डिवेलप किया था लेकिन इसके जितने भी वर्जन जारी होते हैं, उसे चीनी कंपनी टेंसेंट जारी करती है।

चीन के सरकारी मीडिया ने माना था, सिर्फ 59 ऐप पर बैन से 45000 करोड़ रूपये का नुकसान

टिकटॉक भारत में इस कदर लोकप्रिय था कि दुनिया में उसके सबसे ज्यादा यूजर यहीं पर थे। जब टिकटॉक, हेलो, लाइकी, यूसी ब्राउजर, शेयरइट जैसे 59 ऐप्स पर प्रतिबंध की गाज गिरी थी तब चीन की सरकारी न्यूज वेबसाइट ग्लोबल टाइम्स ने चीनी कंपनियों को 6 अरब डॉलर यानी करीब 45 हजार करोड़ रूपये का झटका लगने की बात कही थी। अकेले टिकटॉक को सालाना करीब 720 करोड़ रूपये के नुकसान की बात कही गई थी। टिकटॉक की हालत इतनी खराब हुई कि अब उसे अमेरिकी कंपनियों के हाथों बेचे जाने की नौबत आ चुकी है। सिर्फ 59 ऐप पर बैन से अगर चीनी कंपनियों को 45 हजार करोड़ रूपये के नुकसान की आशंका है तो 224 मोबाइल ऐप पर बैन चीन के लिए कितना बड़ा झटका है, इसका अंदाजा लगाया जा सकता है।

भारत में ही था पबजी मोबाइल गेम का सबसे बड़ा यूजर बेस

गेमिंग की दुनिया में डंका बजाने वाले पबजी मोबाइल ऐप के सबसे ज्यादा यूजर भारत में ही हैं। यह गेम गूगल प्ले स्टोर पर टॉप 5 में शुमार था। एक रिपोर्ट के मुताबिक सिर्फ 2020 के पहले क्वॉर्टर में पबजी को 6 करोड़ लोगों को डाउनलोड किया था। इतना ही नहीं, मई में पबजी दुनिया का सबसे ज्यादा मुनाफा कमाने वाला मोबाइल गेम बना था। उसे 22.6 करोड़ डॉलर यानी करीब 1700 करोड़ रूपये का राजस्व मिला था। अब भारत में बैन से न सिर्फ पबजी का यूजर बेस घटेगा बल्कि तगड़ी आर्थिक चोट भी पहुंचेगी।

सिर्फ टिकटॉक पर बैन से सालाना 720 करोड़ रूपये का नुकसान

सेंसरटावर के आंकड़ों के मुताबिक टिकटॉक बनाने वाली कंपनी बाइट डांस को भारत में 2019 की चौथी तिमाही में 377 करोड़ रूपये की आय हुई थी। साल दर साल के हिसाब से टिकटॉक की कमाई चौथी तिमाही में करीब 310 गुना बढ़ गई। पूरे 2019 वित्त वर्ष में कंपनी को करीब 720 करोड़ रूपये की कमाई सिर्फ टिकटॉक के जरिए हुई थी। यानी सिर्फ टिकटॉक बंद होने से ही चीन को हर साल करीब 720 करोड़ रूपये का नुकसान होगा। भारत में करीब 11.9 करोड़ लोग टिकटॉक इस्तेमाल करते हैं।


Share