भारत ने जिम्बाब्वे के खिलाफ लगातार 13वीं जीत हासिल की, 10 विकेट से हराया

India achieved 13th consecutive win against Zimbabwe
Share

धवन और शुभमन गिल की शानदार फिफ्टी, गेंदबाजी में अक्षर, दीपक और कृष्णा को 3-3 विकेट

हरारे (एजेंसी)। भारत ने जिम्बाब्वे दौरे का आगाज शानदार अंदाज में किया है। उसने गुरुवार (18 अगस्त) को तीन वनडे मैचों की सीरीज के पहले मुकाबले को 10 विकेट से अपने नाम कर लिया। टीम इंडिया की जिम्बाब्वे के खिलाफ वनडे में लगातार 13वीं जीत है। भारत तीन जून 2010 से अब तक इस टीम के खिलाफ नहीं हारा है। पिछली हार हरारे के हरारे स्पोर्ट्स क्लब में ही मिली थी। तब जिम्बाब्वे ने सात विकेट से मैच अपने नाम कर लिया था। उसके बाद से भारत ने इस मैदान पर मेजबान टीम को 10 बार हराया है। वहीं, बुलावायो में दो और ऑकलैंड (न्यूजीलैंड) में एक बार हराया है।

मैच में भारत के कप्तान केएल राहुल ने टॉस जीतकर गेंदबाजी का फैसला किया। उनका यह निर्णय सही साबित हुआ। टीम के गेंदबाजों ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए जिम्बाब्वे को 40.3 ओवर में 189 रन पर ऑलआउट कर दिया। जवाब में टीम इंडिया 30.5 ओवर में बिना किसी नुकसान के 192 रन बनाकर मैच अपने नाम कर लिया। इस जीत के साथ ही भारतीय टीम सीरीज में 1-0 से आगे हो गई है। दीपक चाहर को उनकी शानदार गेंदबाजी के लिए ‘मैन ऑफ द मैच’ चुना गया। दूसरा मुकाबला इसी मैदान पर 20 जून को खेला जाएगा।

भारत की जीत में उपकप्तान शिखर धवन, शुभमन गिल, दीपक चाहर, प्रसिद्ध कृष्णा और अक्षर पटेल छा गए। धवन और गिल ने शतकीय साझेदारी की। दोनों ने पिछले चार मैच में तीन बार शतकीय साझेदारी की। इससे पहले वेस्टइंडीज दौरे पर तीन मैचों की वनडे सीरीज में दो बार दोनों ने 100 से ज्यादा रन जोड़े थे। गिल 82 और धवन 81 रन बनाकर नाबाद रहे। वहीं, दीपक चाहर, प्रसिद्ध कृष्णा और अक्षर पटेल ने तीन-तीन विकेट लिए। चाहर को प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया।

वापसी पर चमके चाहर, शीर्ष क्रम को भेजा पवेलियन : करीब छह महीने पर टीम में लौटे दीपक चाहर ने टीम के लिए पहला ओवर किया। शुरू के कुछ ओवरों में चाहर की गेंदबाजी में वह धार नजर नहीं आ रही थी जिसके लिए वह जाने जाते हैं। उनकी कुछ गेंदें सही हो रही थीं तो कुछ की लाइन भटकी हुई थी। धीरे-धीरे चाहर अपने पुराने रंग में वापस लौट गए। उन्होंने सातवें ओवर में इनोसेंट काया और नौवें ओवर में टी. मारुमानी को पवेलियन भेज दिया।

काया चार और मारुमानी आठ रन बनाकर आउट हुए। दोनों को चाहर ने विकेटकीपर सैमसन के हाथों कैच कराया। जिम्बाब्वे का तीसरा विकेट मोहम्मद सिराज ने लिया। उन्होंने सीन विलियम्स (एक) को धवन के हाथों कैच कराया। सिराज के बाद चाहर ने एक और विकेट लिया। उन्होंने 11वें ओवर में वेस्ले माधेवेरे को एलबीडब्ल्यू आउट कर जिम्बाब्वे को बड़ा झटका दिया। इस तरह 10.1 ओवर में मेजबान टीम के 31 रन पर चार विकेट गिर गए।

अक्षर और प्रसिद्ध ने मध्य और निचले क्रम को समेटा

चाहर और सिराज के बाद अब बारी अक्षर और प्रसिद्ध कृष्णा की थी। 17वें ओवर की पहली गेंद पर कृष्णा ने सिकंदर रजा को (12 रन) को धवन के हाथों कैच करा दिया। 21वें ओवर में रयान बर्ल (11 रन) उनकी ही गेंद पर शुभमन गिल को कैच थमा बैठे। कप्तान रेजिस चकाबवा ने कुछ देर टिकने की हिम्मत दिखाई। उन्होंने 51 गेंद पर 35 रन बनाए। वह 27वें ओवर में अक्षर की गेंद पर बोल्ड हो गए। 29वें ओवर में एल जोन्ग्वे (13 रन) को अक्षर ने एलबीडब्ल्यू कर दिया।

यहां से ब्रैंड इवान्स और रिचर्ड एनगार्वा ने 70 रनों की साझेदारी कर दी। दोनों ने टीम के 180 रन के पार पहुंचाया। एनगार्वा 40वें ओवर में प्रसिद्ध की गेंद पर बोल्ड हो गए। 41वें ओवर में अक्षर ने न्याउची (आठ) को गिल के हाथों कैच कराकर जिम्बाब्वे की पारी को समेट दिया। इवान्स 29 गेंद पर 33 रन बनाकर नाबाद रहे। उन्होंने तीन चौके और एक छक्का लगाया।

गिल और धवन ने किया कमाल

190 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया की शुरुआत शानदार रही। शुभमन गिल और शिखर धवन ने वेस्टइंडीज की तरह यहां भी जमकर बल्लेबाजी की। दोनों ने जिम्बाब्वे के गेंदबाजों को कोई भी मौका नहीं दिया। शुरू में धवन तेज खेल रहे थे। उन्होंने गिल से पहले अर्धशतक लगाया। अर्धशतक लगाने के बाद वह धीमे हो गए। इसी बीच गिल का अर्धशतक पूरा हो गया। फिफ्टी लगाने के बाद वह तेजी से बल्लेबाजी करने लगे। धवन ने अपना 38वां तो गिल ने तीसरा अर्धशतक लगाया। दोनों ने 192 रनों की नाबाद साझेदारी कर टीम को आसान जीत दिला दी।


Share