युद्ध के बीच प्र.म. मोदी ने जेलेंस्की को मिलाया फोन, कहा- किसी भी शांति प्रयास में योगदान के लिए भारत तत्पर

In the middle of the war Modi calls Zelensky, says - India is ready to contribute to any peace effort
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। यूक्रेन और रूस के बीच चल रही जंग के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की से फोन पर बात की। बताया जा रहा है कि इस दौरान दोनों नेताओं के बीच काफी देर तक यूक्रेन में चल रहे संघर्ष पर चर्चा हुई। प्र.म. मोदी ने यूक्रेन के राष्ट्रपति से वार्ता और कूटनीति के जरिए जंग का रास्ता निकालने की बात कही है। उन्होंने जेलेंस्की से शत्रुता को जल्द खत्म करने और बातचीत और कूटनीति के रास्ते पर चलने की जरूरत दोहराई।

फोन पर बातचीत के दौरान प्र.म. मोदी ने विश्वास जताते हुए कहा कि संघर्ष का कोई सैन्य समाधान नहीं हो सकता है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि किसी भी शांति प्रयास में योगदान करने के लिए भारत हमेशा तत्पर है। पीएमओ ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है।

पीएमओ ने अपने ट्वीट में कहा कि प्रधानमंत्री ने यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की के साथ टेलीफोन पर बातचीत में संयुक्त राष्ट्र चार्टर, अंतर्राष्ट्रीय कानून और सभी राज्यों की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करने के महत्व को भी दोहराया।

पीएमओ ने कहा कि जेलेंस्की से वार्ता के दौरान प्र.म. मोदी ने इस बात पर जोर दिया कि भारत यूक्रेन सहित परमाणु प्रतिष्ठानों की सुरक्षा को महत्व देता है। उन्होंने यह भी कहा कि परमाणु सुविधाओं के खतरे में सार्वजनिक स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए दूरगामी और विनाशकारी परिणाम हो सकते हैं।

इससे पहले प्र.म. मोदी ने मार्च माह में यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की से फोन पर बात की थी। तब दोनों नेताओं के बीच करीबन 35 मिनट तक वार्ता हुई थी। इस दौरान प्र.म. मोदी ने यूक्रेन से भारतीयों को सही सलामत निकालने के लिए जेलेंस्की का शुक्रिया जताया था। साथ ही, प्र.म. ने रूस से जारी युद्ध को लेकर भी जेलेंस्की से चर्चा की थी।

पीएमओ ने कहा कि जेलेंस्की से वार्ता के दौरान प्र.म. मोदी ने इस बात पर जोर दिया कि भारत यूक्रेन सहित परमाणु प्रतिष्ठानों की सुरक्षा को महत्व देता है। उन्होंने यह भी कहा कि परमाणु सुविधाओं के खतरे में सार्वजनिक स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए दूरगामी और विनाशकारी परिणाम हो सकते हैं।

इससे पहले प्र.म. मोदी ने मार्च माह में यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की से फोन पर बात की थी। तब दोनों नेताओं के बीच करीबन 35 मिनट तक वार्ता हुई थी। इस दौरान प्र.म. मोदी ने यूक्रेन से भारतीयों को सही सलामत निकालने के लिए जेलेंस्की का शुक्रिया जताया था। साथ ही, प्र.म. ने रूस से जारी युद्ध को लेकर भी जेलेंस्की से चर्चा की थी।


Share