राष्ट्र के नाम संबोधन में बोले इमरान- ‘पाकिस्तान का फैसला रविवार को होगा, इस्तीफा नहीं दूंगा’

In his address to the nation, Imran said- 'Pakistan's decision will be taken on Sunday, I will not resign'
Share

इस्लामाबाद (एजेंसी)। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने गुरूवार को राष्ट्र के नाम संबोधन किया। उन्होंने अपने संबोधन के दौरान कहा कि पाकिस्तान के लिए आज फैसले की घड़ी है। आज मैं देश से लाइव बात कर रहा हूं। इमरान ने संबोधन के दौरान कहा कि पाकिस्तान मुझसे सिर्फ पांच साल बड़ा है। हम यहां की पहली जेनरेशन हैं।

इमरान ने इस दौरान कहा कि पाकिस्तान का फैसला रविवार को होगा। संसद में वोटिंग होगी और तय होगा कि पाकिस्तान की सत्ता में कौन काबिज होगा। लेकिन जो लोग यह कह रहे हैं कि इमरान इस्तीफा देगा तो वो यह जान लें कि इमरान आखिरी बॉल तक मैदान पर डटा रहा है और डटा रहेगा।

इमरान खान ने कहा, पाकिस्तान ने कई कुर्बानी दी लेकिन इसका श्रेय हमें नहीं मिला। अफगानिस्तान के आजाद होने से पहले कहा गया कि पाकिस्तान की दोगली नीति के कारण वे (अमेरिका) जीत नहीं सकते। ड्रोन अटैक हुए, मैंने धरने दिए, मुझे तालिबान खान कहा गया। मैं ये सब इसलिए बता रहा हूं ताकि लोगों को पता चले कि मेरी नीतियां क्या हैं। हमारे मुल्क की सरकारों ने इस जुर्म में हिस्सा लिया। पाकिस्तानियों ने हर तरफ से झेला है। सरकार बनते ही मैंने कहा था कि पाकिस्तान की विदेश नीति हमारे लोगों के लिए होगी। यह भारत या अमेरिका विरोधी नहीं थी। मैंने पहली बार भारत के खिलाफ तब बोला जब भारत ने कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय कानून को 5 अगस्त 2019 को तोड़ा।

‘ना मैं झुकूंगा और ना ही अपनी कौम को झुकने दूंगा’

संबोधन के दौरान इमरान ने कहा कि जब से मैंने सत्ता संभाली, पहले ही दिन से मैंने ऐसी फॉरेन पॉलिसी बनाई जो पाकिस्तान के लोगों के लिए हो। पाकिस्तान के लोगों के लिए का मतलब ये नहीं है कि हम किसी और से दुश्मनी कर लें।

इमरान ने अपने संबोधन के दौरान गुरूवार को कहा कि ना मैं झुकूंगा और ना ही अपनी कौम को झुकने दूंगा। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान दहशतगर्दी के खिलाफ है। पाकिस्तान के कबाइली इलाकों के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि वे कबाइली इलाकों को दूसरों से बेहतर जानते हैं।

‘अमेरिका को मुझसे दिक्कत’

इमरान खान ने कहा कि अमेरिका को मुझसे दिक्कत है, दूसरे दलों या नेताओं से नहीं है। अमेरिका ने रिश्ते खत्म करने की धमकी दी। इमरान ने कहा कि बाहरी लोगों ने यहां के लोगों के साथ मिलकर हमारी सरकार को गिराने की साजिश रची। उन्होंने कहा कि रूस जाने का फैसला हमारे अकेले का नहीं था। मेरे रूस जाने से अमेरिका नाराज हो गया।

‘हमने मुल्क को नीचे जाते देखा’

पाकिस्तान के लोगों को संबोधित करते हुए इमरान खान ने कहा कि उन्होंने मुल्क को नीचे जाते देखा है। वॉर ऑन टेरर पर पाकिस्तान को जिल्लत देखनी पड़ी। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान विदेशी ताकतों के सामने चीटियों की तरह रेंग रहा है। उन्होंने कहा कि हमारी फॉरेन पॉलिसी आजाद होगी, इसका फायदा पाकिस्तान को होगा। उन्होंने कहा, मैं सभी मुल्कों को जानता हूं। मैं किसी देश के खिलाफ हो ही नहीं सकता। किसी और की लड़ाई के लिए हम पाकिस्तानयों को कुर्बान क्यों करें। हमने रूस के खिलाफ जेहाद किया, हमने मुजाहिद भेजे। रूस से युद्ध के बाद ने अमेरिका में हमारे ऊपर प्रतिबंध लगा दिए।


Share