प्रधानमंत्री की मुख्यमंत्रियों के साथ अहम बैठक, कहा- ‘हम कोरोना की लड़ाई जरूर जीतेंगे’

'लॉकडाउन गया है, कोरोना नहीं, बिगडऩे न दें स्थिति'
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। देश में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरूवार को एक अहम बैठक की। प्र.म. मोदी के साथ मीटिंग में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और लगभग सभी राज्यों के मुख्यमंत्री मौजूद रहे। इस दौरान राज्यों में बढ़ते कोरोना के मामलों, टीकाकरण और बुनियादी स्वास्थ्य सुविधाओं पर चर्चा हुई। इसके अलावा कोरोना की बढ़ती रफ्तार पर काबू पाने के लिए पाबंदियों को बढ़ाने पर भी चर्चा हुई।

इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सौ साल की सबसे बड़ी महामारी से भारत की लड़ाई अब तीसरे साल में प्रवेश कर चुकी है। मेहनत हमारा एकमात्र पथ है और विजय एकमात्र विकल्प है। हम 130 करोड़ भारतीय अपने प्रयासों से कोरोना से जीतकर जरूर निकलेंगे। उन्होंने कहा कि ओमिक्रॉन को लेकर पहले जो संशय की स्थिति थी, वो अब धीरे-धीरे साफ हो रही है। पहले जो वैरिएंट थे, उनकी अपेक्षा में कई गुना अधिक तेजी से ओमिक्रॉन वैरिएंट सामान्य जन को संक्रमित कर रहा है।

उन्होंने कहा कि पिछले वैरिएंट की तुलना में ओमिक्रोन तेजी से फैल रहा है,ये अधिक ट्रांसमिसिबल है। हमारे स्वास्थ्य विशेषज्ञ स्थिति का आकलन कर रहे हैं। स्पष्ट है कि हमें सतर्क रहना है। उन्होंने टीकाकरण का जिक्र करते हुए कहा कि आज भारत लगभग 92 फीसदी वयस्क जनसंख्या को कोविड वैक्सीन की पहली डोज दे चुका है। देश दूसरी डोज की कवरेज में भी 70 फीसदी के आसपास पहुंच चुका है। 10 दिन के अंदर ही भारत ने लगभग 3 करोड़ किशोरों का भी टीकाकरण कर दिया है।

उन्होंने कहा कि आज राज्यों के पास पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन है। फ्रंटलाइन वर्कर्स और वरिष्ठ नागरिकों को ‘प्रीकॉशन डोजÓ जितनी जल्द लगेगी उतना ही हमारे हेल्थ केयर सिस्टम का सामथ्र्य बढ़ेगा। शत-प्रतिशत टीकाकरण के लिए हर घर दस्तक अभियान को हमें और तेज करना है। हमें टीकाकरण के बारे में अफवाहों का मुकाबला करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि केंद्र द्वारा राज्यों को आवंटित 23,000 करोड़ रूपये के पैकेज का अच्छी तरह से उपयोग किया गया है। कई राज्यों ने अपने स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत किया है। केंद्र और राज्यों को इस बार भी इस पूर्व-खाली, सामूहिक और सक्रिय दृष्टिकोण का पालन करने की आवश्यकता है।


Share