नींद पूरी नहीं होने से कमजोर होती है इम्युनिटी, विटामिन-डी और सी भी बेहद जरूरी; जानिए इसे कैसे बेहतर कर सकते हैं

Share

नींद पूरी नहीं होने से कमजोर होती है इम्युनिटी, विटामिन-डी और सी भी बेहद जरूरी; जानिए इसे कैसे बेहतर कर सकते हैं

गुनगुना पानी भी इम्युनिटी बढ़ाने के लिए है बहुत कारगर, इससे पाचन और मेटाबॉलिज्म सही रहता है

धूप से मिलने वाला विटामिन-डी कोरोना से लडऩे में मददगार, ये टी-सेल के निर्माण में सहायता करता है

नई दिल्ली (एजेंसी)।  इम्युनिटी यानी शरीर में रोगों से लडऩे की क्षमता। कोरोना के दौर में यह शब्द देश और दुनिया में सबसे ज्यादा चर्चा में है। इसके पीछे बड़ी वजह है, क्योंकि कमजोर इम्युनिटी वाले लोग कोरोना की चपेट में सबसे ज्यादा आसानी से आ रहे हैं। उन्हें जान का भी खतरा है। ऐसे में शरीर की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। हालांकि इम्युनिटी कुछ दिन या हफ्ते में नहीं बढ़ती। इसके लिए आपको रोजाना की लाइफ-स्टाइल और खान-पान में कई बदलाव करने पड़ेंगे।

बच्चों, बुजुर्गों और डायबिटीज, हार्ट डिसीज के मरीजों का इम्युन सिस्टम ज्यादा कमजोर होता है। आइए जानते हैं कि कौन से खाने-पीने की चीजें और एक्टिविटीज शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का काम करते हैं।

रोजाना कम से कम 7-8 घंटे की नींद जरूरी है, धूप में बैठें, मॉर्निंग वॉक करें

दिल्ली के मैक्स हॉस्पिटल के सीनियर कंसल्टटेंट और ऑर्थोपेडिशियन डॉक्टर अखिलेश यादव कहते हैं कि इम्युनिटी बढ़ाने के लिए रोजाना की जिंदगी को संयमित बनाना होगा। सुबह सबसे पहले मॉर्निंग वॉक या योग करें। फिर नाश्ता। कुछ देर धूप में बैठें, इस दौरान हाथ-पैर खुले होने चाहिए।

डॉक्टर अखिलेश कहते हैं कि उचित नींद भी बेहद जरूरी है, इससे भी इम्युनिटी बूस्ट होती है। सबसे अहम है सुबह के वक्त जल्दी उठना। जल्दी उठने का मतलब है गर्मी में सुबह 5 से 6 बजे के बीच और सर्दी में 6 से 7 बजे के बीच बिस्तर छोड़ देना। पर जल्दी उठने का यह कतई मतलब नहीं है कि आपको आधी-अधूरी नींद लेनी है।

रोजाना कम से कम 7-8 घंटे की नींद जरूरी है। कम नींद से शरीर में कॉर्टिसोल नामक हॉर्मोन के लेवल में बढ़ोतरी होती है। यह हॉर्मोन न केवल तनाव बढ़ाता है, बल्कि हमारे इम्युनिटी सिस्टम को भी कमजोर करता है।

दो मंत्र- रेस्पिरेटरी एटिकेट्स, पर्सनल हाइजीन

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के प्रेसिडेंट डॉ. राजन शर्मा कहते हैं कि कोविड एक ड्रॉपलेट्स बेस्ड बीमारी है, इसलिए साफ-सफाई सबसे जरूरी चीज है। इसके लिए दो मंत्र हैं- रेस्पिरेटरी एटिकेट्स और पर्सनल हाइजीन। रेस्पिरेटरी एटिकेट्स का मतलब है कि छींकते, खांसते समय अपने मुंह को ढकें, मास्क अनिवार्य रूप से पहनें। हाइजीन का मतलब खुद को स्वस्थ रहने का तरीका।

विटामिन डी से भी इम्युनिटी सिस्टम मजबूत बनता है

मुंबई के स्वस्थ अस्पताल की डॉक्टर माधवी ठोके का मानना है कि धूप से मिलने वाला विटामिन-डी कोरोना से लडऩे में मददगार है, क्योंकि यह टी-सेल के निर्माण में सहायता करता है। यही टी-सेल इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत बनाने में बेहद मददगार होती है, जो कोरोना वायरस से लडऩे में फ्रंटलाइन वॉरियर का काम करती है।

गुनगुने पानी से बेहतर करें इम्युनिटी

आयुर्वेद चिकित्सक और लेखक डॉक्टर अबरार मुल्तानी के अनुसार ब्रेकफास्ट और गुनगुना पानी भी इम्युनिटी बढ़ाने के लिए बहुत कारगर है। इससे पाचन और मेटाबॉलिज्म सही रहता है। इसके अलावा फेफड़ा तथा गला भी हेल्दी रहता है। रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मेटाबॉलिज्म का महत्व होता है। हमारा मेटाबॉलिज्म जितना अच्छा होगा, हमारी रोग-प्रतिरोधक क्षमता भी उतनी ही बेहतर होगी।


Share