लावारिस हालत में मिले युवक की शिनाख्त

सुखेर-प्रतापनगर थाने के बीच फुटबाल बना युवक का शव
Share

सुखेर-प्रतापनगर थाने के बीच फुटबाल बना युवक का शव

पोस्टमार्टम के लिए दोनों थाने एक-दूसरे पर डालते रहे जिम्मेदारी, बाद में प्रतापनगर पुलिस ने बिना पोस्टमार्टम पिता को सौंपा

उदयपुर. नगर संवाददाता & शहर के प्रतापनगर थाना क्षेत्र में गत दिनों लावारिस हालत में अचेतावस्था में मिले अज्ञात युवक ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। मृतक की शिनाख्त होने के बाद भी युवक का शव दो थानों के बीच फुटबॉल बन गया। प्रतापनगर थाना पुलिस मामला सुखेर का बताकर और सुखेर थाना पुलिस प्रतापनगर पर डाल रही थी। इस दौरान चार घंटे तक मृतक के वृद्ध पिता व परिवारजन को मुर्दाघर के बाहर बैठना पड़ा। आखिरकार प्रतापनगर पुलिस ने कार्यवाही की।

पुलिस सूत्रों के अनुसार प्रतापनगर चौराहे पर अज्ञात 40 से 45 वर्षीय युवक ने एमबी चिकित्सालय में उपचार के दौरान मौत हो गई थी। शव को मोर्चरी में रखवाकर शिनाख्तगी का प्रयास शुरू कर दिया। मृतक की पहचान कैलाश तेली के रूप में हुई थी, लेकिन परिजनों का पता नहीं लग। गुरूवार को मृतक के पिता घीसूलाल पुत्र भगवानलाल तेली ने आकर शव की पहचान अपने पुत्र के रूप में की। उन्होंने बताया कि यह घर से लम्बे समय से निकला हुआ था और शराब पीकर इधर-उधर घूमता रहता था। बीच में कमाई करने मुम्बई भी गया था, कबाडिय़ों के साथ घूमता-फिरता और शराब पीता था। इसकी पत्नी ने इसे तलाक दे दिया था और इसकी बेटी की जन्म होते ही मौत हो गई थी, जिससे यह मानसिक रूप से डिस्टर्ब हो गया और शराब पीने का आदी हो गया था। शव लेने को लेकर सुखेर व प्रतापनगर थाने के बीच चार घंटे तक रस्साकस्सी चलती रही। प्रतापनगर पुलिस इसे सुखेर थाने पर डाल रही थी तो सुखेर पुलिस इसे प्रतापनगर पुलिस पर डाल रही थी। चार घंटे बाद अस्पताल चौकी ने बताया कि शव प्रतापनगर चौराहे की तरफ से आया था, इस पर प्रतापनगर थाने के हेड कांस्टेबल महेंद्र सिंह मुर्दाघर पहुंचे जहां मृतक के पिता ने लिखित में दिया कि वे किसी तरह की कोई कानूनी कार्यवाही नहीं कराना चाहते है और न ही बेटे के शव का पोस्टमार्टम कराना चाहते है। पिता की रिपोर्ट पर पुलिस ने बिना पोस्टमार्टम के शव परिजनों को सौंप दिया।


Share