आईपीएल के आगे झुकी आईसीसी & पाकिस्तान का विरोध खारिज, 75 दिन तक सिर्फ आईपीएल, जब तक आईपीएल होगा, तब तक दूसरा इंटरनेशनल मैच नहीं होगा

The pace of ODIs increased by 7-8 times from IPL, 400+ runs in 15 ODIs in 14 years after IPL, this happened only 5 times in first 37 years
Share

दुबई (एजेंसी)। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने अगले फ्यूचर टूर प्रोग्राम (एफटीपी) साइकिल में आईपीएल को खास जगह दी है। ईएसपीएन क्रिकइन्फो की रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2024 से आईपीएल के लिए ढाई महीने की विंडो तैयार की गई है। इस दौरान कोई भी अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेला जाएगा। सभी खिलाड़ी सिर्फ आईपीएल पर फोकस कर सकेंगे। इससे पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को बड़ा झटका लगा है। उसने आईपीएल को मिलने वाली विंडो के खिलाफ आईसीसी में शिकायत करने का फैसला लिया था। हालांकि, आईसीसी ने पीसीबी को झटका दिया। इस फैसले से आईपीएल फैन्स का मजा और बढऩे वाला है। यानी अब सभी अंतरराष्ट्रीय स्टार्स बिना किसी कमिटमेंट के लीग खेल सकेंगे। बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने कुछ महीने पहले ही इसकी पहल की थी और बताया था कि उन्होंने विभिन्न बोर्डों के साथ-साथ आईसीसी के साथ भी इस बारे में चर्चा की है। उनकी यह बात अब सच होने जा रही है। ईएसपीएन क्रिकइन्फो की रिपोर्ट में इस बात की जानकारी दी गई है।

बाकी लीगों के लिए समर्पित विंडो नहीं

आईपीएल 2022 में 10 टीमों के बीच 74 मैच खेले गए थे। गुजरात टाइटंस और लखनऊ सुपर जाएंट्स लीग में शामिल होने वाली दो नई टीमें हैं। आने वाले सालों में मैचों की संख्या बढ़ाकर 84 और फिर 94 की जा सकती है। आईपीएल के विपरीत, इंग्लैंड के ‘हंड्रेड’, ऑस्ट्रेलिया के ‘बिग बैश लीग’, पाकिस्तान के ‘पाकिस्तान सुपर लीग’ और ‘कैरेबियन प्रीमियर लीग’ के लिए समर्पित विंडो नहीं होगी।

नए एफटीपी साइकिल में इनको मिलेगी जगह

ईएसपीएल की रिपोर्ट के मुताबिक, आईपीएल में 2023 और 2024 में 74 मैच, 2025 और 2026 में 84 मैच और 2027 तक हर साल 94 मैच खेले जा सकते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, आईसीसी के 2023-2027 एफटीपी में दो वल्र्ड टेस्ट चैम्पियनशिप, आईसीसी टी-20 और वनडे वल्र्ड कप के अलावा कई द्विपक्षीय सीरीज सीरीज शामिल हैं। इस दौरान खिलाडिय़ों को बहुत कम आराम मिलने की संभावना है, क्योंकि काफी टाइट शेड्यूल बनाया गया है।

पाकिस्तानी खिलाड़ी आईपीएल में बैन

आईपीएल के लिए ढाई महीने की विंडो को लेकर पीसीबी ने चिंता व्यक्त की थी। दरअसल, सीमा पार तनाव के कारण उसके खिलाडिय़ों को आईपीएल से प्रतिबंधित कर दिया गया था। ऐसे में पीसीबी नहीं चाहता था कि आईपीएल को इतनी बड़ी विंडो मिले। ईएसपीएन क्रिकइन्फो की रिपोर्ट के मुताबिक, पीसीबी अध्यक्ष रमीज राजा को अन्य सदस्यों से कोई समर्थन नहीं मिला।

रमीज राजा की मजबूरी विरोध करना

आईपीएल से विदेशी खिलाडिय़ों की भी खूब कमाई होती है। प्रत्येक विदेशी खिलाड़ी के बिकने पर फ्रेंचाइजी सदस्य बोर्डों के लिए 10 प्रतिशत शुल्क सुनिश्चित करता है। अधिकांश देश आईपीएल के दौरान कोई अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं रखते हैं। पाकिस्तान की आपत्ति के बारे में पूछे जाने पर आईसीसी बोर्ड के एक सदस्य ने कहा- रमीज के साथ समस्या यह है कि उन्हें अपने देश के मीडिया से कुछ बातें कहनी होती हैं और यह जायज है क्योंकि उनकी मजबूरी है। हालांकि, आईसीसी की बैठकों में उनका रूझान एक अलग कहानी बताता है। वह कभी भी मजबूती से इसका विरोध नहीं करते हैं। रमीज एक सज्जन व्यक्ति हैं और वह जानते हैं कि क्या जरूरी है, दूसरे बोर्ड क्या चाहते हैं और खिलाड़ी क्या चाहते हैं।

जिस देश की लीग, उसे नहीं खेलना होगा अंतरराष्ट्रीय मैच

ईसीबी और क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया दोनों यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि विंडो को इस तरह से निर्धारित किया जाए, जिससे दोनों देशों के मार्की खिलाड़ी अधिकांश वक्त के लिए टूर्नामेंट (द हंड्रेड/बीबीएल) के लिए उपलब्ध हों। इंग्लैंड के पास जुलाई से अगस्त तक तीन सप्ताह की विंडो मिल सकती है, ताकि मार्की खिलाड़ी हंड्रेड खेल सकें। बीबीएल के पास 2024 के बाद से चार सालों तक जनवरी में विंडो होगी। वहीं,  वेस्टइंडीज के पास कैरेबियन प्रीमियर लीग के लिए अगस्त-सितंबर की खिड़की है।

25-26 जुलाई को औपचारिक एलान

पाकिस्तान को 2024-25 सीजन में परेशानी हो सकती है, क्योंकि तब उसे पीएसएल के साथ ही इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू टेस्ट सीरीज भी खेलना है। इसके बाद पाक टीम को अपने ही घर में न्यूजीलैंड और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ट्राई सीरीज भी खेलनी है। 25 और 26 जुलाई को बर्मिंघम में आईसीसी की एनुअल मीटिंग होनी है। उस दौरान एफटीपी का औपचारिक तौर पर एलान कर दिया जाएगा।


Share