गहलोत सरकार के प्रमोटी प्रेम से नाखुश हैं र्आइएएस अधिकारी

गहलोत सरकार के प्रमोटी प्रेम से नाखुश हैं र्आइएएस अधिकारी
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। गहलोत सरकार के प्रमोटी अफसरों के प्रेम और उपेक्षा से नाखुश भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी (आईएएस) लगातार केंद्र सरकार की तरफ रूख कर रहे हैं। गहलोत सरकार के रवैये से नाराजगी के कारण ये अधिकारी प्रतिनियुक्ति पर केंद्र सरकार में जा रहे हैं। आधा दर्जन अधिकारी तो गहलोत सरकार के सत्ता संभालने के कुछ समय बाद ही केंद्र में चले गए और वहीं कई अब जाना चाहते हैं।

सूत्रों के मुताबिक प्रतिनियुक्ति पर जाने वाले अधिकारियों की पीड़ा यह है कि गहलोत सरकार में सीधे आईएएस बनने वालों के बजाय प्रमोटी अफसरों को अधिक महत्व के पदों पर लगाया जा रहा है। इतना ही नहीं, अधिकारियों के बजाय विधायकों एवं कांग्रेस के पदाधिकारियों की सलाह को मुख्यमंत्री कार्यालय में अधिक महत्व दिया जाता है। उनके मनमाफिक काम नहीं करने पर या तो कम महत्व के पदों पर नियुक्त किया जाता है या फिर प्रताडि़त किया जाता है।
राजधानी जयपुर जैसे जिले में राज्य सेवा से आईएएस में प्रोन्नत हुए अंतर सिंह नेहरा को लगाए जाने से सीधे आईएएस बनने वालों में काफी नाराजगी है। इन अधिकारियों ने अपनी नाराजगी कई बार मुख्य सचिव के माध्यम से मुख्यमंत्री तक पहुंचाई, लेकिन उसे दरकिनार कर दिया गया।

राज्य के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी रजत कुमार मिश्र गहलोत के सत्ता संभालने के साथ ही केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर चले गए। उनके बाद संजय मल्होत्रा, तन्मय कुमार और सांवरमल वर्मा भी केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर चले गए। राजीव सिंह ठाकुर पहले से ही दिल्ली में हैं। अब प्रवीण गुप्ता, नरेशपाल गंगवार, कृष्ण कुणाल और विष्णु चरण मलिक ने भी केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर जाने के लिए सीएम गहलोत से अनुमति मांगी है। इनमें से प्रवीण गुप्ता को तो अनुमति मिल गई, शेष की फाइल मुख्यमंत्री कार्यालय में लंबित है। आईएएस अधिकारी देवाशीष पुष्टि व रोहित गुप्ता स्टडी लीव पर विदेश चले गए। अधिकारियों के दिल्ली की राह चुनने के कारण प्रदेश में 10 आईएएस अफसरों के पास एक से अधिक विभागों का अतिरिक्त प्रभार है।

उल्लेखनीय है कि राज्य में आईएएस अधिकारियों का कैडर 313 का है, लेकिन वर्तमान में 247 ही हैं। इनमें से भी एक दर्जन अधिकारी केंद्र सरकार में प्रतिनियुक्ति पर चले गए और कुछ जाने की कतार में हैं।


Share