बयान पर विधानसभा में भारी हंगामा, सदन में धारीवाल ने माफी मांगी, स्पीकर ने मार्शलों को कहा : इन्हें उठाकर बाहर फेंको जो होगा देखा जाएगा, मार्शलों के साथ भाजपा विधायकों की धक्का-मुक्की

Huge uproar in the Assembly over the statement, Dhariwal apologized in the House, Speaker told the marshals: pick them up and throw them out, what will happen will be seen, BJP MLAs scuffle with marshals
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)।  रेप में नंबर वन होने की पीछे राजस्थान को ‘मर्दों का प्रदेश’ बताने संबंधी संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल के बयान पर भाजपा विधायकों ने विधानसभा में जमकर हंगामा किया। हंगामे के बीच ही करीब 35 मिनट प्रश्नकाल की कार्यवाही चली, सदन में तख्तियां लेकर आने पर स्पीकर ने आरएलपी विधायक नारायण बेनीवाल और पुखराज गर्ग को मार्शल से बाहर निकलवाने का आदेश दिया। इसके बाद सदन की कार्यवाही को एक घंटे के लिए स्थगित कर दिया गया। इस बीच, मार्शल दोनों विधायकों को बाहर निकालने आए तो भाजपा विधायकों ने घेरा बना लिया। इस पर सदन में मार्शलों और भाजपा विधायकों के बीच धक्का-मुक्की हो गई। फिर नाराज विधायक सदन में धरने पर बैठ गए।

सुबह 11 बजे जैसे ही प्रश्नकाल से सदन की कार्यवाही शुरू हुई नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने धारीवाल के बेतुके बयान का मामला उठाया। इसके बाद शांति धारीवाल ने सदन में खड़े होकर बयान के लिए माफी मांगी और कहा कि उनकी जुबान फिसल गई थी। भाजपा विधायक धारीवाल के माफी मांगने से संतुष्ट नहीं हुए। वेल में आकर हंगामा-नारेबाजी करने लगे। स्पीकर के चेताने के बाद भी भाजपा विधायक नहीं माने और लगातार हंगामा जारी रहा। इसके चलते आधा प्रश्नकाल हंगामे की भेंट चढ़ गया।

सदन में धक्का-मुक्की : स्पीकर के आदेश पर सदन में मार्शल बुला लिए गए। भाजपा विधायकों ने दोनों विधायकों को घेरकर सुरक्षा घेरा बना लिया। इस दौरान सदन में मार्शल्स और भाजपा विधायकों के बीच धक्का-मुक्की हुई। नाराज भाजपा विधायक सदन की वेल में धरने पर बैठ गए।

धारीवाल ने माफी मांगी, कहा- मेरे मुंह से गलत शब्द निकल गए, इसका मुझे खेद है

संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने बुधवार के बयान पर विधानसभा में माफी मांगी, खेद प्रकट किया। धारीवाल ने कहा, कल पुलिस की अनुदान मांगों पर जब जवाब दे रहा था तो कुछ शब्द मेरे से गलत निकल गए। इसका अहसास होते ही संबोधन के दौरान ही मैंने सभापति से उन्हें कार्यवाही से हटाने का अनुरोध किया था। गलत शब्द स्लिप ऑफ टंग थे। इसका मुझे खेद है। दरअसल राजस्थान मरू प्रदेश है। इसके बारे में कुछ कहना चाहता था, लेकिन स्लिप आफ टंग के कारण गलत शब्द निकल गए। मैं व्यक्तिगत तौर पर महिलाओं का बहुत सम्मान करता हूं और करता रहूंगा। यदि मेरे शब्दों से ठेस लगी है तो मैं माफी मांगता हूं।

सदन में तख्तियां दिखाने पर चेतावनी

विधानसभा में हंगामे के बीच ही प्रश्नकाल चल रहा था। मंत्री अशोक चांदना सवाल का जवाब दे रहे थे, इसी दौरान आरएलपी विधायक और भाजपा विधायक सदन में तख्तियां लेकर आ गए। स्पीकर ने उन्हें तख्तियां बाहर रखने को कहा, लेकिन नहीं माने। कुछ देर बाद फिर तख्तियां लेकर आगे बढ़े तो स्पीकर ने मार्शल बुलाने की चेतावनी दी। कुछ देर बाद स्पीकर ने आरएलपी विधायक नारायण बेनीवाल और पुखराज गर्ग को मार्शल से बाहर निकलवाने का आदेश दिया। स्पीकर ने कहा, इन दोनों को बाहर फेंकिए, जो होगा देखा जाएगा। इसके बाद एक घंटे के लिए कार्यवाही स्थगित कर दी।


Share