60 दिन में कैसे लग सकता है 50 करोड़ भारतीयों को टीका?

Covid वैक्सीनेशन होगा VOLUNTARY: GOVT Of India
Share

बेंगलुरू (एजेंसी)। विप्रो के संस्थापक अजीम प्रेमजी ने भारत सरकार को कोविड-19 के खिलाफ देश के मेगा टीकाकरण अभियान में प्राईवेट सेक्टर को भागीदारी की मंजूरी देने का प्रस्ताव रखते हुए कहा कि यदि सरकार निजी क्षेत्र के साथ जुड़ती है तो अगले 60 दिनों में करीब 50 करोड़ से अधिक लोगों का वैक्सीनेशन किया जा सकता है।

भारत के टीकाकरण कार्यक्रम की सराहना

बैंगलोर चैंबर ऑफ इंडस्ट्री एंड कॉमर्स द्वारा आयोजित एक संवाद सत्र को संबोधित करते हुए अजीम प्रेमजी ने भारत के टीकाकरण कार्यक्रम की सराहना की और कहा कि कोविड-19 वैक्सीन को रिकॉर्ड समय में विकसित किया गया है और आज बड़े अनुपात में लोगों तक वैक्सीन पहुंचाने की आवश्यकता है। बता दें मोदी सरकार ने बजट में 35,000 करोड़ रूपये खर्च करने के लिए जनसंख्या के बड़े हिस्से के टीकाकरण का भार वहन करने का फैसला किया है। आवंटन में लगभग 50 करोड़ भारतीयों को टीका लगाने में मदद करने की उम्मीद है। सरकार ने वैक्सीन की लागत और अन्य लागत सहित प्रति व्यक्ति 700 रूपये की लागत का अनुमान लगाया है।

प्रेमजी ने वित्त मंत्री से कहा कि इस बात की संभावना है कि हम सीरम संस्थान को लगभग 300 रूपए प्रति शॉट और अस्पताल व निजी नर्सिंग होम 100 रूपए प्रति शॉट उपलब्ध करवा सकते हैं। ऐसे में 400 रूपए प्रति शॉट के साथ एक बहुत बड़ी जनसंख्या का टीकाकरण किया जा सकता है। प्रेमजी के मुताबिक, यदि सरकार निजी क्षेत्र को इसमें साथ लेती है तो देश 60 दिनों के भीतर 50 करोड़ लोगों को कवर कर सकता है।

उन्होंने कहा कि यह बहुत प्रैक्टिकल है और महत्वपूर्ण भी। प्रेमजी निजी क्षेत्र के सक्रिय भागीदारी के लिए टीकाकरण के प्रयासों में तेजी लाने के लिए महिंद्रा समूह के अध्यक्ष आनंद महिंद्रा सहित अन्य उद्योग के नेताओं में शामिल हुए। उद्योग लॉबी ने भी टीकाकरण अभियान में कॉर्पोरेट क्षेत्र की ‘पूर्ण भागीदारीÓ की वकालत की।


Share