रातभर झमाझम बारिश, लेकसिटी उफनी, चहुंओर पानी-पानी, उदयपुर संभाग में उफान पर रहे नदी-नाले, कई इलाके जलमग्न

रातभर झमाझम बारिश, लेकसिटी उफनी, चहुंओर पानी-पानी, उदयपुर संभाग में उफान पर रहे नदी-नाले, कई इलाके जलमग्न
Share

नगर संवाददाता . उदयपुर। लेकसिटी में मानसून का ओरेंज अलर्ट रेल अलर्ट साबित हुआ और सोमवार रात को शुरू हुआ झमाझम बारिश का दौर मंगलवार देर रात तक जारी रहा। बारिश ने शहर ही नहीं, आस-पास के गांव-कस्बों को भी पानी-पानी कर दिया। शहर के ड्रेनेज सिस्टम की पोल खुल गई, पुलियाओं व रपट के ऊपर पानी बहने से घंटों यातायात बाधित रहा तो निचले इलाकों में पानी घुस गया, नदियां उफान पर रही तो शहर में कई जगह सड़कों पर घुटनों तक पानी बहने से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। यह इस सीजन की सबसे तेज बारिश रही। उदयपुर-झाड़ोल नेशनल हाइवे पूरी तरह बंद हो गया। इस हाइवे पर पहाड़ों से मलबा आ गिरा। हालांकि कोई जनहानि नहीं हुई। झाड़ोल से उदयपुर, ओगणा, गोगुंदा और कंथारिया जाने वाले सभी रास्ते बंद हो गए। उदयपुर के ताज अरावली होटल के बाहर वाली पुलिया पूरी तरह पानी में डूब गई, अमरजोक नदी में केबिन बह गया।

सीसारमा नदी से सीजन में पहली बार लगातार रिकॉर्ड 12 फीट पानी के बहाव की आवक से स्वरूप सागर झील के तीन गेट साढ़े तीन फीट, फतहसागर के चार गेट चार-चार इंच खोल दिए गए। उदयसागर दो गेट छह-छह फीट खुलने के बावजूद निकासी धीमी होने व आवक ज्यादा होने से बेकवाटर वाले गांवों में बाढ़ का खतरा बना हुआ है। दिन में सीसारमा नदी में बहाव इतना जबर्दस्त था कि उसने गांव का रुख कर दिया व कई जगह पानी भर गया। अलसीगढ़ में मात्र 1.5 घंटे में 3 इंच बरसात हो गई।  उदयपुर शहर में महज सोमवार रात से सुबह तक ढाई इंच पानी बरस गया। नेशनल हाइवे 58 गोगुंदा रोड़ पर चट्टान आ गिरे जिससे रास्ता जाम हुआ।  सुबह 8 बजे तक स्वरूप सागर में 58 एमएम, जयसमंद में 36 एमएम, गोगुंदा में 35 एमएम, उदयसागर और वल्लभनगर में 32-32 एमएम, मदार और सलूम्बर में 30 एमएम बरसात हुई।

मानसी वाकल के गेट खुले, गुजरात जाएगा पानी

आकोदड़ा बांध और मादड़ी बांध से आवक तेज होने पर मानसी वाकल बांध का जलस्तर मंगलवार सुबह 581.20 मीटर पूर्ण भराव स्तर के मुकाबले 580.80 मीटर हो गया। जलस्तर तेजी से बढऩे पर सुबह 11.45 बजे मानसी वाकल बांध के गेट खोल दिए गए। यह पानी अब गुजरात जाएगा।

स्कूलों में आज बच्चों की छुट्टी, गुरूजी जाएंगे

भारी बरसात के उदयपुर, प्रतापगढ़, चित्तौडग़ढ़ के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में बुधवार 24 अगस्त को कलेक्टर के आदेश पर जिला शिक्षा अधिकारी ने बच्चों के लिए अवकाश घोषित किया। हालांकि शिक्षकों को जाना होगा। उदयपुर के शिक्षा विभाग के आदेश के तहत स्कूलों के भवन के हालात को देखते हुए बिल्डिंग को पूरी तरह सही पाए जाने के बाद ही स्कूलों की बिल्डिंग को इस्तेमाल करने और स्कूल खोले जाने का निर्णय लिया जाए।


Share