‘हलाल’ शब्द सरकारी दस्तावेज से गायब

'हलाल' शब्द सरकारी दस्तावेज से गायब
Share

इस्लामी संस्थाओं के सर्टिफिकेट का खेल बंद

-मोदी सरकार का बड़ा फैसला

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारत सरकार के ‘कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण या एपीईडीए ने अपने रेड मीट मैन्युअल में से ‘हलाल’ शब्द को ही हटा दिया है और इसके बिना ही दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

सरकार के इस कदम के बाद अब ‘हलाल’ सर्टिफिकेट की जरूरत समाप्त हो जाएगी और सभी प्रकार के वैध मीट कारोबारी अपना पंजीकरण करा सकेंगे।

एपीईडीए ने अपने ‘फूड सेफ्टी मैनेजमेंट सिस्टम’ के स्टैंडर्ड्स और क्वालिटी मैनेजमेंट के डॉक्यूमेंट में बदलाव किया है। पहले इसमें लिखा हुआ था कि जानवरों को ‘हलाल’ प्रक्रिया का कड़ाई से पालन करते हुए जबह किया जाता है, जिसमें इस्लामी मुल्कों की जरूरतों को ध्यान में रखा जाता है। अब इसकी जगह लिखा गया है, मीट को जहां आयात किया जाना है, उन मुल्कों की ज़रूरतों के हिसाब से जानवरों का जबह किया गया है।

जहां पहले लिखा था, इस्लामी संगठनों की मौजूदगी में जानवरों को हलाल प्रक्रिया के तहत जबह किया गया है। प्रतिष्ठित इस्लामी संगठनों के सर्टिफिकेट लेकर मुस्लिम मुल्कों की जरूरतों का ध्यान रखा गया है, वहां अब लिखा है, आयातक देश के जरूरतों के अनुसार जानवरों को जबह किया गया है।


Share