ग्रुप कैप्टन वरूण सिंह पंचतत्व में विलीन- पूर्ण सैन्य सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई

Share

भोपाल (एजेंसी)। वायुसेना के शहीद ग्रुप कैप्टन वरूण सिंह को शुक्रवार को यहां बैरागढ़ स्थित विश्रामघाट में पूर्ण सैन्य सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गयी और वे पंचतत्व में विलीन हो गए।

परिजनों, सेना के अधिकारियों जवानों, जनप्रतिनिधियों और हजारों लोगों की मौजूदगी में ग्रुप कैप्टन को उनके लगभग दस वर्षीय पुत्र रिधिमन ने मुखाग्नि दी। ग्रुप कैप्टन वरूण सिंह के छोटे भाई एवं नौसेना के अधिकारी तनुज सिंह ने भी भतीजे रिधिमन के साथ अपने भाई को मुखाग्नि दी। इस अवसर पर ग्रुप कैप्टन के पिता सेवानिवृत कर्नल के पी सिंह, मां उमा सिंह, पत्नी गीतांजलि और अन्य परिजन भी मौजूद थे। ग्रुप कैप्टन की एक बेटी आराध्या भी है, जो पुत्र रिधिमन से छोटी है।

इसके पहले यहां सेना के अस्पताल से उनकी पार्थिव देह को एक ट्रक में सजाकर रखा गया और उनकी अंतिम यात्रा प्रारंभ हुई, जो बैरागढ़ विश्रामघाट पहुंचने पर संपन्न हुई। मुख्यमंत्री शिवराज ङ्क्षसह चौहान भी अंतिम विदाई देने लिए श्मशानघाट पर मौजूद रहे। उन्होंने पार्थिव देह पर पुष्पचक्र अर्पित किया। सेना के अधिकारियों कर्मचारियों ने भी पुष्पचक्र अर्पित करने के साथ ही अपने जांबाज अधिकारी को सलामी दी।

शौर्य चक्र से सम्मानित ग्रुप कैप्टन वरूण सिंह का निधन बुधवार को बंगलूर मे हो गया था और उनकी पार्थिव देह गुरूवार को यहां लाई गयी थी। उनके माता पिता भोपाल में ही निवास करते हैं। पार्थिव देह के कल और आज परिजनों, परिचितों के अलावा आम लोगों ने भी दर्शन किए और उन्हें नम आंखों से विदाई दी।

तमिलनाडु में 8 दिसंबर को देश के पहले रक्षा प्रमुख जनरल बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर में ग्रुप कैप्टन वरूण सिंह भी शामिल थे, जो उस दिन दुर्घटना का शिकार हो गया था। हेलीकॉप्टर में सवार सभी लोगों का निधन उसी समय हो गया था और ग्रुप कैप्टन को गंभीर हालत में बंगलूर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्होंने एक सप्ताह से अधिक समय तक मौत से संघर्ष किया।


Share