रेमेडिसविर के उत्पादन को दोगुना करने के लिए सरकार ने दी मंजूरी

केंद्र ने रेमेडिसविर इंजेक्शन का निर्यात रोका
Share

रेमेडिसविर के उत्पादन को दोगुना करने के लिए सरकार ने दी मंजूरी- केंद्र सरकार ने दवा कंपनियों को रेमेडिसविर के उत्पादन को दोगुना करने की अनुमति दी है, जो कोरोना के उपचार में एंटीवायरल के रूप में उपयोगी है। परिणामस्वरूप, प्रति माह 38.8 लाख रेमेडिसविर का वर्तमान उत्पादन 78 लाख हो जाएगा। निजी दवा कंपनियों ने भी उपायों की कीमत कम करने के लिए अपनी तत्परता का संकेत दिया है। इसलिए यह उम्मीद है कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई एक प्रमुख भूमिका निभाएगी।

देश में फास्ट ट्रैक अप्रूवल के माध्यम से अनुमेय कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बाद रेमेडिसविर इंजेक्शन की भारी कमी का सामना करना पड़ रहा था।  मरीजों के रिश्तेदारों को रेमेडिसविर इंजेक्शन लेने के लिए भागना पड़ता है। कई राज्यों से ऐसी शिकायतें आईं कि रीमेडिविविर इंजेक्शनों की कमी थी। इस स्थिति को देखते हुए भारत सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है।

देश में रेमेडिसविर के उत्पादन को दोगुना करने के निर्णय को फास्ट ट्रैक अनुमोदन के माध्यम से अनुमति दी गई है। इससे पहले दिन में, केंद्र सरकार ने केमिस्ट की दुकानों में इसकी बिक्री पर प्रतिबंध लगाया था। सरकार ने कहा था कि इंजेक्शन केवल अस्पताल में ऑक्सीजन सहायता पर रोगियों को दिया जाएगा। बाकी इंजेक्शन का उपयोग नहीं किया जाएगा।

3500 रुपए होगी इंजेक्शन की कीमत

रेमेडिसविर के उत्पादन को दोगुना करने के निर्णय से इसकी आपूर्ति बढ़ जाएगी। इसलिए, दवा कंपनियों ने इस इंजेक्शन की कीमत को कम करने के लिए तत्परता दिखाई है, जो वर्तमान में महंगा है, 3,500 रुपये से कम है।

कंपनी को देनी होगी हर जानकारी

महाराष्ट्र और गुजरात में रेमेडिसविर की भारी कमी थी। देश के अन्य हिस्सों में भी स्थिति ऐसी ही थी।  इसलिए, भारत सरकार ने रेमेडिसविर इंजेक्शन के निर्यात को रोक दिया है। देश में कोरोना की स्थिति में सुधार होने तक ये आदेश लागू रहेंगे। रेमेडिसविर इंजेक्शन बनाने वाली स्थानीय कंपनियों को वेबसाइट पर इंजेक्शन स्टॉक के बारे में जानकारी पोस्ट करनी होगी। कंपनियों को यह भी जानकारी देनी होगी कि कौन से डीलर वितरण कर रहे हैं।


Share