रोडवेज से आई बेटियों से लिये खुशखबरी, दी जा रही है अनुकंपा नौकरी

Good news for daughters who came from roadways, compassionate job is being given
Rajasthan State Road Transport Corporation
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। राजस्थान रोडवेज से बेटियों के लिए खुशखबरी आई है। रोडवेज ने अनुकंपा नौकरी के कोटे में बेटियों को भी नियुक्तियां देनी शुरू कर दी है। सीएम अशोक गहलोत ने हाल ही में इसको लेकर बजट में घोषणा की थी। उसके बाद रोडवेज ने इस पर अमल करना भी शुरू कर दिया है। इससे रोडवेज में अनुकंपा पर बेटियों को नौकरियां मिलनी शुरू हो गई है। इस श्रेणी में नौकरी पाने के लिये अब तक 24 बेटियों ने रोडवेज में आवेदन किया है। उनमें से 3 को नौकरी दी जा चुकी है। इस कोटे में केवल अविवाहित ही नहीं बल्कि शादीशुदा बेटियों को भी पात्र माना गया है। रोडवेज ने नौकरी के इस मसले को अपनी प्राथमिकता में रखा है।

दरअसल रोडवेज में काम करने वाले ऐसे कई कर्मचारी थे जो नौकरी में रहते हुये असमय ही मृत्यु का शिकार हो गए थे। उनकी जगह रोडवेज में अनुकंपा नौकरी पाने वाला कोई पुत्र नहीं होने की वजह से उस परिवार के किसी अन्य सदस्य को नौकरी नहीं मिल पाई। गहलोत सरकार ने इस मामले में बड़ा फैसला लेते हुए बजट में घोषणा की थी।

सीएम गहलोत ने ये की थी घोषणा

सीएम गहलोत की घोषणा के मुताबिक रोडवेज में रहते हुये यदि किसी कर्मचारी की असमय मृत्यु हो गई है और उसके परिवार में कोई बेटा नहीं है तो उसकी बेटी को अनुकंपा नौकरी दी जायेगी। भले ही वो बेटियां शादीशुदा ही क्यों ना हो। खास बात ये है कि ये केवल घोषणा बनकर ही नहीं रह गई बल्कि रोडवेज में इस पर फौरन अमल भी शुरू हो गया है। अब तक 3 बेटियों को नौकरी के लिए पत्र भी मिल चुका है।

सुविधा अनुसार नियुक्तियां

राजस्थान रोडवेज में ऐसा पहली बार हुआ है जब पिता की जगह उनकी शादीशुदा बेटियों को नौकरी के लिये ढूंढा जा रहा है। ऐसे परिवारों की खुशी का ठिकाना नहीं है जिनके यहां पहले नौकरी पाने वाला कोई नहीं था। सीएम गहलोत अब घोषणा के बाद बेटियों को भी नौकरी में जगह मिल रही है। बहरहाल सबको अलग-अलग मुख्यालयों पर उनकी सुविधा के अनुसार नियुक्तियां दी जा रही है।

सभी 24 बेटियों के आवेदन पर कार्रवाई शुरू हो चुकी

राजस्थान रोडवेज के कार्यकारी प्रबंधक (जनसपंर्क) सुधीर भाटी के अनुसार राज्य सरकार की घोषणा के बाद रोडवेज को अपने मृत कर्मचारियों की 24 बेटियों के आवेदन मिले हैं। ये सभी शादीशुदा हैं। इन पर तत्काल कागजी कार्रवाई शुरू हो चुकी है। जल्द ही इन सभी 24 बेटियों को उनके पिता की जगह नौकरी मिल जाएगी। फिलहाल 3 को नौकरियां मिल चुकी है। नौकरी पाने वाली तीन बेटियों में एक चितौडग़ढ़ की कविता गुर्जर है। दूसरी झालावाड़ की ज्योति पाटीदार हैं और तीसरी जोधपुर की शीला बोहरा राजपुरोहित है।


Share