38 करोड़ कामगारों के लिए खुशखबरी- सरकार ने लॉन्च किया ई-श्रम पोर्टल

38 करोड़ कामगारों के लिए खुशखबरी- सरकार ने लॉन्च किया ई-श्रम पोर्टल
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। देश भर में लगभग 38 करोड़ मजदूर ऐसे हैं जो असंगठित क्षेत्र में काम करते हैं। इनमें से ज्यादातर दिहाड़ी मजदूर है। इन लोगों की दशा तब नजर आई थी जब कोरोना लॉकडाउन का ऐलान हुआ था। ऐसे मजदूरों के लिए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को एक डेटा बेस तैयार करने को कहा था। इसी क्रम में गुरूवार को केंद्रीय श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव ने ई-श्रम पोर्टल लॉन्च किया।

पोर्टल पर जाकर कोई भी मजदूर अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। इसमें उन्हें अपना आधार नंबर मोबाइल नंबर और बैंक अकाउंट नंबर देना होगा। इस पोर्टल पर मजदूर को अपना बाकी ब्योरा जैसे घर का पता और काम करने की क्षमता, शिक्षा का स्तर, आमदनी आदि बताना होगा।

मजदूरों को मिलेगा एक श्रम कार्ड और नंबर

रजिस्ट्रेशन होने के बाद मजदूरों को एक श्रम कार्ड और नंबर दिया जाएगा। ये कार्ड और नंबर पूरे देश भर में माना जाएगा। मजदूर चाहे देश की किसी हिस्से में काम करें उन्हें इस कार्ड से मदद दी जाएगी। इस पोर्टल पर मजदूर अपनी शिकायत भी दर्ज करा पाएंगे। पोर्टल के लिए एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है जिसमे मजदूर मदद मांग सकते हैं।

असंगठित क्षेत्र के मजदूरों का डेटा बेस होगा तैयार

इस वेबसाइट का मकसद असंगठित क्षेत्र के मजदूरों का एक डेटा बेस तैयार करना है। रजिस्ट्रेशन के बाद सरकार को इस बात की जानकारी मिल जाएगी की देश में कितने ऐसे मजदूर है, उनका स्तर क्या है और उनको किस तरह की मदद की जरूरत है। इसी के आधार पर केंद्र और राज्य सरकारें मजदूरों के लिए योजना बनाएगी और फिर मजदूरों को उन योजनाओं से जोड़ा जाएगा। केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों और मजदूर संगठनों को इस रजिस्ट्रेशन को कामयाब बनाने के लिए आगे आने की अपील की है। जितने ज्यादा मजदूर रजिस्ट्रेशन कराएंगे, योजनाएं भी उसी आधार पर बनाई जाएंगी।


Share