गुलाम नबी राजस्थान से जाएंगे राज्यसभा

Ghulam Nabi will go to Rajya Sabha from Rajasthan
Share

राहुल गांधी के दोस्त की भी लग सकती है लॉटरी

कांग्रेस के चिंतन शिविर में तय हुए राज्यसभा से भेजे जाने वाले नाम | राजस्थान की 4 राज्यसभा सीटों   के लिए 10 जून को मतदान

जी-23 के मुखिया और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद का नाम आगे

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। कांग्रेस की ओर से उदयपुर में चिंतन शिविर किए जाने के बाद यहां से ही पार्टी को मजबूत करने की कवायद लगातार दिख रही है। इसी क्रम में पार्टी राजस्थान से एक ओर दांव खेलने जा रही है। दरअसल राजस्थान की 4 राज्यसभा सीटों के लिए 10 जून को मतदान होना है। राजस्थान से ओमप्रकाश माथुर, केजे अल्फोंस, रामकुमार वर्मा और हर्षवर्धन सिंह डूंगरपुर का कार्यकाल पूरा हो गया है। ये चारों सीटें भाजपा के पास थी। इनका कार्यकाल 4 जुलाई तक रहेगा। इन्हीं समीकरणों को ध्यान में कांग्रेस राजस्थान के जरिए मजबूती के साथ जीत की कवायद में जुट गई है। मिली जानकारी के अनुसार कांग्रेस जी-23 के मुखिया और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद को राजस्थान से राज्यसभा भेजने की तैयारी कर ली है।

राज्यसभा में कांग्रेस को मिल सकती है 3 सीटें

राजनीति के जानकारों की मानें, तो कांग्रेस 4 में से 3 राज्यसभा सीट जीतकर भाजपा को झटका दे सकती है। कांग्रेस को 3 सीट जीतने के लिए निर्दलीय विधायकों की जरूरत पड़ेगी। प्रदेश के करीब 13 निर्दलीय विधायक गहलोत सरकार को समर्थन दे रहे हैं। चूंकि राजस्थान विधानसभा का मौजूदा गणित कांग्रेस के पक्ष में है। ऐसे में माना जा रहा है कि राजस्थान से राज्यसभा में पार्टी को मजबूती मिल सकती है। प्रदेश में कांग्रेस के पास 108 विधायक, भाजपा के पास 71, निर्दलीय 13, आरएलपी 3, बीटीपी 2, माकपा 2 और आरएलडी के पास एक विधायक है। संभावना है कि मौजूदा संख्या बल के हिसाब से कांग्रेस 4 में 3 राज्यसभा की सीट आसानी से जीत जाएगी।

गुलाम नबी आजाद को लेकर एक सुर में समर्थन

मिली जानकारी के अनुसार कांग्रेस चिंतन शिविर में सोनिया गांधी ने सीएम गहलोत से राज्यसभा में भेजे जाने वाले सदस्यों को लेकर चर्चा की थी। इसमें गुलाब नबी आजाद के नाम सामने आया। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के प्रस्ताव को मानते हुए सीएम गहलोत ने आजाद के नाम को लेकर समर्थन दे दिया। वहीं गहलोत के धुर विरोधी माने जाने वाले सचिन पायलट ने भी गुलाम नबी आजाद के नाम कोई आपत्ति नहीं जताई है।

पहले प्रियंका गांधी को राजस्थान से भेजे जाने की चर्चा : बता दें कि जयपुर से दिल्ली तक कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता राज्यसभा जाने के लिए दौड़ लगा रहे हैं। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को भी राजस्थान से राज्यसभा भेजने की चर्चा थी, लेकिन पार्टी ने अपनी रणनीति में बदलाव करते हुए अब गुलाम नबी आजाद को राजस्थान से राज्यसभा में भेजने का फैसला किया है। अभी जानकारी यह मिली है कि प्रियंका गांधी को अब कर्नाटक से राज्यसभा भेजा जाएगा। कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डीके शिवकुमार ने हाल में ही प्रियंका गांधी को राज्यसभा का उम्मीदवार बनाने के संकेत भी दिए है। दरअसल इसके पीछे यह बताया जा रहा है कि इंदिरा गांधी और सोनिया गांधी ने कर्नाटक से चुनाव लड़कर सशक्त राजनीतिक मैसेज दिया था, लिहाजा प्रियंका को भी पार्टी वहीं से राज्यसभा भेजेंगी।

भवंर जितेंद्र को लेकर भी चर्चा : उल्लेखनीय है कि राजस्थान से राज्यसभा में जहां गुलाम नबी आजाद को भेजने की चर्चा जोरों पर है। वहीं राज्यसभा की दूसरी सीट के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री भंवर जितेंद्र सिंह का नाम आगे बताया जा रहा है। बता दें कि राहुल गांधी के करीबी ने माने जाने वाले अलवर राजपरिवार के सदस्य भंवर सिंह पार्टी महासचिव के पद पर है। बताया जा रहा है कि राज्यसभा जाने के लिए उनकी लॉबिंग चल रही है। वहीं गुलाब नबी आजाद राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष भी रह चुके हैं।


Share