2 आंतकी संगठन के सुराग मिल रहे, एनआईए जांच में आया सामने

NIA Director informs Home Minister about investigation of Udaipur incident
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)।  टेलर कन्हैयालाल हत्याकांड मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद अब घटना के आतंकी कनेक्शन को खंगालने की कोशिश की जा रही है। घटना को लेकर राजस्थान एसआईटी और एनआईए जांच कर रही है। प्रारंभिक तौर पर सामने आया है कि जिन हत्यारों ने इस वारदात को अंजाम दिया वो किसी पाकिस्तानी संगठन के साथ लिप्त है, जिसका नाम दावत ए इस्लामी है। इस संगठन के बारे में जांच की गई तो पता चला इसके तार पाकिस्तान के बरेलवी पैन-इस्लामिक तहरीक-ए-लब्बैक चरमपंथी संगठन से जुड़े है। लिहाजा कुल मिलाकर अभी पूरे हत्याकांड में पाकिस्तानी कनेक्शन होने का संदेह जताया जा रहा है। एनआईए हत्याकांड की तह तक जाने की कोशिश कर रही है, ताकि जल्द से जल्द इस मामले में सही जानकारी सामने आ सके।

पीएफआई को लेकर भी जताया जा रहा संदेह

उल्लेखनीय है कि पिछले कुछ समय से देश में होने वाले हर एक दंगे में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया संगठन का कनेक्शन निकल रहा है। राजस्थान की करौली में हुई घटना के तार भी इसी संगठन के साथ जोड़कर देखे जा रहे थे। लिहाजा उदयपुर में हुई घटना के बाद एक बार फिर पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया यानी पीएफआई की ओर शक की सुई घूम रही है। बता दें कि पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया एक कट्टर इस्लामिक संगठन है। यह खुद को पिछड़ों और अल्पसंख्यकों के अधिकार के लिए आवाज उठाने वाला बताता है, लेकिन देश के कई राज्यों में हुए दंगों में इस संगठन का कनेक्शन पाया गया है।

हत्यारे पकड़े गए पर मोटिव पूरी तरह सामने नहीं आया : उल्लेखनीय है कि टेलर कन्हैयालाल की गला रेत कर हत्या करने वाले हत्यारों को राजस्थान पुलिस ने राजसमंद जिले से 4 घंटे के भीतर गिरफ्तार कर लिया था। अब गिरफ्तारी किए गए हत्यारों से लगातार पूछताछ की जा रही है। वहीं घटना में जिस पड़ोसी नज़ीम का जिक्र आ रहा है, उससे इनका क्या कनेक्शन था। फिलहाल इस संबंध में भी पुख्ता सूचना नहीं मिली है। वहीं अभी तक हत्या का मोटिव भी पूरी तरह क्लीयर नहीं हुआ है, बहरहाल जांच जारी है।

गृह मंत्रालय के साथ सीएम गहलोत भी कह चुके हैं… : उल्लेखनीय है कि जहां मामले में एनआईए की ओर से आतंकी संगठन के शामिल होने का शक जताया जा रहा है। वहीं इसी बीच सीएम अशोक गहलोत ने भी मीडिया को दिए अपने बयान में इसमें किसी राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय संगठन के शामिल होने का संदेह जताया है। सीएम गहलोत का कहना है कि राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बड़े लिंक के बिना ऐसा होना संभव नहीं है। वहीं गृह मंत्रालय भी एनआईए की जांच इसी ओर बढऩे की बात कह रहा है।


Share