गहलोत का पायलट पर तंज, ‘हमारे नेता ही कार्यकर्ताओं को भड़काते हैं’

गहलोत का पायलट पर तंज, 'हमारे नेता ही कार्यकर्ताओं को भड़काते हैं’
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बिना नाम लिए पायलट पर फिर तंज किया है। उन्होंने कहा, हमारे नेता ही कार्यकर्ताओं को भड़काते हैं। कार्यकर्ताओं का मान-सम्मान होना चाहिए, आजकल यह जुमला बन गया है। गहलोत ने सोमवार को शहीद स्मारक पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे।

पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट के कार्यकर्ताओं के मान-सम्मान संबंधी पुराने बयानों को लेकर गहलोत ने कहा, अरे कार्यकर्ताओं का मान-सम्मान तो आपने किया है क्या कभी? जानते भी हो क्या, क्या होता है, कार्यकर्ताओं का मान-सम्मान? हम तो मान-सम्मान पाते-पाते ही कार्यकर्ता से नेता बने हैं।

उन्होंने कहा, एक जमाने में इंदिरा गांधी जैसी बड़ी नेता खुद हार गईं थीं, तब भी कार्यकर्ताओं ने हिम्मत नहीं हारी थीं। आप निश्चिंत रहें। अच्छे दिन आए न आएं, लेकिन कांग्रेस के अच्छे दिन जरूर आएंगे।

बचे हुए बोर्ड-निगम बन पाएंगे या नहीं, कह नहीं सकते : गहलोत ने कहा, मैं जानता हूं कि कार्यकर्ताओं की अपेक्षा होती है कि मैं पद पर आ जाऊं। बोर्ड में चेयरमैन, उपाध्यक्ष या मेंबर बन जाऊं। कांग्रेस में कई बातें ऐसी रही कि हम वो काम कर नहीं पाए। राहुल गांधी ने सिस्टम बनाया कि बोर्ड,कॉर्पोरेशन में राजनीतिक नियुक्तियां राज्यों से नहीं कांग्रेस के महासचिव करेंगे।

बोर्ड, निगमों में कौन-कौन आएंगे इसका फैसला राष्ट्रीय महासचिव करेंगे। कई राज्यों में कार्यकर्ताओं को न्याय नहीं मिला। वहां मुख्यंमत्री या प्रदेशाध्यक्ष ने अपने स्तर पर ही फैसला कर लिया, इसलिए यह सिस्टम बनाया। वह प्रयोग था, उस प्रयोग से ऐसी हालत बन जाती है कि टाइम लग जाता है। इस वजह से छह महीने पहले ही बोर्ड-निगमों में नियुक्तियां हो पाईं। अभी भी 15-20 बोर्ड-निगमों में नियुक्तियां बाकी हैं, पता नहीं उनमें नियुक्तियां हो पाएंगी या नहीं। वे बोर्ड-निगम बनेंगे या नहीं कह नहीं सकते।

पायलट ने कहा था- खून पसीना बहाने वाले कार्यकर्ताओं को मिले मान सम्मान : सचिन पायलट कार्यकर्ताओं का मान सम्मान रखने को लेकर कई बार बयान दे चुके हैं। पायलट ने कहा था कि भाजपा राज में जिन कार्यकर्ताओं ने लाठियां खाईं, मुकदमे झेले उनका मान-सम्मान होना चाहिए। भाजपा राज में खून पसीना बहाने वाले कार्यकर्ताओं को यह अहसास होना चाहिए कि सरकार में उनकी भागीदारी है।

कांग्रेस की बैठक में भी गहलोत ने इसी अंदाज में तंज कसा था

अप्रैल में कांग्रेस मेंबरशिप अभियान को लेकर हुई बैठक में भी सीएम अशोक गहलोत ने कार्यकर्ताओं के मान सम्मान को लेकर सचिन पायलट पर तंज कसा था।

बैठक में गहलोत ने पायलट पर तंज कसते हुए कहा था- जो लोग मुझ पर यह आरोप लगाते हैं कि पार्टी के लिए खून-पसीना बहाकर सरकार बनाने वाले कार्यकर्ताओं की सुनवाई नहीं होती, उनके यहां भी कार्यकर्ताओं की सुनवाई नहीं होती। आरोप लगाने वाले खुद भी कार्यकर्ताओं की नहीं सुनते। अब चार महीने बाद फिर गहलोत ने पायलट को इस मुद्दे पर निशाने पर लिया है।


Share