घटना पर गहलोत बोले- यह शर्मनाक, मोदी-शाह करें शांति की अपील

भाजपा माहौल खराब करना चाह रही : गहलोत
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। उदयपुर में हुई घटना को लेकर शहर में तनाव सीएम अशोक गहलोत ने कहा है कि पीएम मोदी और अमित शाह को शांति की अपील करनी चाहिए। गहलोत ने कहा, यह चिंता वाली बात है कि इस तरह से हत्या हो जाए किसी का, यह दुखद भी है, शर्मनाक भी है। मैं समझता हूं कि माहौल ठीक करने की आवश्यकता भी है। पूरे देश के अंदर तनाव का माहौल बन गया है। मैं बार-बार बोलता हूं पीएम मोदी को और अमित शाह जी को कि आप देश को क्यों नहीं संबोधित कर रहे हैं।

गहलोत ने कहा,  जो हालात बन गए हैं कुछ कारणों से, गलियों-मोहल्लों में लोग समझ नहीं पा रहे हैं, जहां जिसकी आबादी कम संख्या में है, चाहे वह हिंदू है या मुस्लिम, वह ज्यादा चिंतित है।  आपस में दूरी बन गई है, तनाव हो गया है। इसको समझने की जरूरत है। अगर हम लोग कुछ बोलते हैं तो फर्क पड़ता है। प्रधानमंत्री बोलते हैं तो ज्यादा फर्क पड़ता है। मुझे लगता है कि पीएम मोदी को ऐसे मौके पर पूरे देश को संबोधित करना चाहिए। अपील करनी चाहिए कि हम किसी कीमत पर हिंसा स्वीकार नहीं करेंगे।

राजस्थान के मुख्यमंत्री ने कहा कि उदयपुर की घटना मामूली नहीं है, जो हुआ है वह कल्पना से बाहर है कि कोई ऐसा भी कर सकता है। उन्होंने कहा, जितनी निंदा की जाए कम है। मैंने नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया से भी बात की है। वह सीएमओ से संपर्क में हैं। हम चाहते हैं कि सब मिलकर, ऐसे वक्त में शांति से रहें। दोषी को बख्शा नहीं जाएगा। पुलिस गिरफ्तारी का प्रयास कर रही है। जिस रूप में यह घटना हुई है उससे लोगों में आक्रोश हुआ होगा, मैं कल्पना कर सकता हूं।

आमने-सामने पथराव, दो बाईकों को आग लगाई

इस घटना के बाद से सैंकड़ों की संख्या में लोग अंदरूनी क्षेत्र में पहुँच गए और बोहरवाड़ी में एक मस्जिद की ओर जाने लगे तो सामने से पत्थर आने लगे तो इन लोगों ने जवाब में पथराव किया। साथ में मौजूद जाब्ता भी इन लोगों को काबू नहीं कर पा रहा था। दोनों ओर से जमकर पथराव किया गया और बाद में अतिरिक्त पुलिस बल आया और इन युवाओं को खदेड़ा गया। इधर इस दौरान आक्रोशित भीड़ ने हंगामा खड़ा कर दिया और वहां पर एक घर में रखी दो बाईकों में आग लगा दी, जिससे दोनों बाईकें जलकर नष्ट हो गई। मौके पर दमकल भी नहीं जा पाई।

इन बातों पर हुआ समझौता, 25 लाख का मुआवजा मिलेगा

मृतक कन्हैयालाल तेली के दो बेटे यश (20) व छोटा बेटा तरूण (18) का है और उसकी पत्नी जसोदा देवी है। दोनों बच्चों ने ग्रेजुएशन कर रखी है और पत्नी अनपढ़ है। वार्ता कर रहे प्रतिनिधि मण्डल ने दोनों बच्चों को सरकारी नौकरी और सहायता राशि के रूप में पचास लाख रुपये देने की मांग की लेकिन अधिकारी पच्चीस लाख रूपये पर तैयार हो गये। इस पर काफी जद्दोजहद के बाद एसीबी के डीआईजी गोयल ने बीच में समझाईश करते हुए जिला कलेक्टर से मृतक के आश्रितों को तीस लाख रुपये मुआवजा देने के लिए राजी कर दिया और लिखित में उन्हें यह आश्वासन देने की बात कही। इस समझौते के बाद जैसे ही प्रतिनिधि मण्डल घटनास्थल पर पहुंचा तो पुन: माहौल गर्मा गया।

रात 10.15 बजे मौके से उठाया शव

देर रात्रि तक चले हंगामे और विरोध प्रदर्शन के बाद जब वार्ता हुई और वार्ता में सहमति बनने के बाद रात्रि को 10.15 बजे घटना स्थल मृतक कन्हैयालाल का शव उठाया गया। मृतक के शव को मोर्चरी में रखवाया गया है, जिसका पुलिस सुरक्षा के बीच पोस्टमार्टम करवाया जाएगा।

दोनों हत्यारे भीम से गिरफ्तार

टेलर मास्टर कन्हैयालाल की हत्या के बाद आरोपी भाग गए। यह देखकर पुलिस अधीक्षक ने उदयपुर जिले के साथ-साथ पूरे संभाग में कड़ी नाकाबंदी करवाई। इस पर राजसमंद पुलिस अधीक्षक सुधीर चौधरी ने सख्त से सख्त नाकाबंदी करने के आदेश दिए। इस जिला स्पेशल टीम भी लगातार इन आरोपियों का पीछा कर रही थी। स्पेशल टीम के कांस्टेबल प्रहलाद पाटीदार को ही सबसे पहले सूचना मिली कि दोनों आरोपी अजमेर की ओर जा रहे है तो पुलिस की 10 टीमें इन आरोपियों के पीछे लग गई, जहां पर स्थानीय पुलिस की सहायता से दोनों आरोपियों को भीम से गिरफ्तार किया गया। आरोपी खांजीपीर निवासी गोस मोहम्मद और रियाज अंसारी है। दोनों आरोपियों को भीम में पकडऩे के बाद आरोपियों को देर रात्रि को उदयपुर लाया गया। हालांकि पुलिस अधिकारियों ने अधिकारिक पुष्टि नहीं की है।


Share