लॉ एंड ऑर्डर की समीक्षा बैठक में बोले गहलोत – प्रदेश में कहीं भी साम्प्रदायिक दंगा नहीं हुआ

सीएम गहलोत के नाम पर ठगी का प्रयास, आंध्र के मंत्रियों से करोड़ों ठगे, प्रेमिका को दिलाया लाखों का फ्लैट
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राजस्थान में कहीं भी साम्प्रदायिक दंगा नहीं हुआ और तनाव की घटनाओं पर समय रहते कंट्रोलिंग की गई है। आज पूरे देश में तनाव और अशान्ति का माहौल है। रामनवमी पर 7 राज्यों में समान पैटर्न पर दंगे हुए। जिनके पीछे की गहरी साजिश की केन्द्रीय लेवल पर जांच कराने के लिए देश के गृहमंत्री अमित शाह से आग्रह किया है। उन्होंने राजस्थान पुलिस और गृह विभाग के आला अफसरों से कहा कि हाल ही हुई सांप्रदायिक तनाव की घटनाओं का रिपीटेशन रोकने के लिए इंफॉर्मेशन सिस्टम को मजबूत करें। गहलोत ने कहा कि प्रदेश में होने वाली हर घटना की बिना किसी भेदभाव के गहराई से जांच की जाए। कम्युनिटी भागीदारी बढ़ाने के लिए शांति समिति,सीएलजी, पुलिस मित्र, ग्राम रक्षक और सुरक्षा सखियों के साथ अच्छा तालमेल करके कानून व्यवस्था में इनका इस्तेमाल करें। ड्रोन और सीसीटीवी कैमरा जैसे टेक्नीकल इंस्ट्रूमेंट्स का इस्तेमाल कर निगरानी सिस्टम को मजबूत बनाया जाए।

आदतन अपराधियों के खिलाफ विशेष अभियान चलाएं : गहलोत ने बुधवार को राजस्थान में लॉ एंड ऑर्डर की समीक्षा करते हुए राजस्थान पुलिस के आला अफसरों को कहा कि रिपीट ऑफेंडर्स और आदतन अपराधियों के खिलाफ प्रदेश में विशेष अभियान चलाया जाए। अपराधियों के खिलाफ हृस््र,राजस्थान समाज विरोधी क्रियाकलाप निवारण एक्ट (राजपासा) और गुंडा एक्ट में कार्रवाई की जाए। खास तौर पर साम्प्रदायिक संवेदनशील एरिया में विशेष सतर्कता बरतें। गहलोत ने कहा आपराधियों के खिलाफ प्रभावी और निष्पक्ष कार्रवाई की जाए। इसके लिए पुलिस अधिकारी स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर मौका निरीक्षण करें। साथ ही मीडिया और सोशल मीडिया की मदद से फैक्ट्स की सही जानकारी जनता को दें। उन्होंने कहा टेक्नीकल सर्विलांस का भी इस्तेमाल किया जाए।

गहलोत ने कहा पुलिस की प्रभावी कार्रवाई से कानून का इकबाल कायम होगा और जनता को राहत मिलेगी। इसके लिए सभी जिलों और सम्भागों में पुलिस-प्रशासन के अधिकारी सतर्क रहकर क्राइम कंट्रोलिंग करें। साथ ही राज्य में शांति और भाईचारे का माहौल बनाए रखने के लिए मॉनिटरिंग करें।

जिला कलेक्टर करें मौके का इंस्पेक्शन

मुख्यमंत्री ने कहा कि डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर्स जिला, सब डिविजन और तहसील लेवल पर अफसरों के साथ जॉइंट रूप से मौके का इंस्पेक्शन करें। ताकि छोटी घटनाओं को और ज्यादा भडऩे से रोका जा सके। उन्होंने कहा आमजन में विश्वास और अपराधियों में डर पैदा होना चाहिए। सामाजिक सद्भाव बिगाडऩे वालों की ओर से फैलाई जाने वाली अफवाहों के बारे में लोगों को तुरंत फैक्चुअल स्थिति दी जानी चाहिए। इसके लिए सोशल मीडिया का इफेक्टिव इस्तेमाल किया जाए। उन्होंने बीट कांस्टेबल लेवल पर वाट्सऐप पर ग्रूप बनाकर इंटेलेक्चुअलल्स और लोकल लेवल पर काम करने वाले लोगों को जोडऩे के भी निर्देश दिए।


Share