दो साल की उपलब्धियां गिनाते पायलट गुट की बगावत पर बरसे गहलोत

राजस्थान सत्ता व संगठन में फेरदबल की तैयारी
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)।  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने फिर से साफ कर दिया है कि वे पायलट खेमे को इतनी आसानी से स्वीकार नहीं करेंगे। सरकार की दो साल की उपलब्धियां गिनाते-गिनाते भी वे इसी मुद्दे पर आ गए और प्रदेश प्रभारी अजय माकन की मौजूदगी में कह दिया कि दिल्ली की अफवाह के चक्कर में नहीं आना चाहिए। दिल्ली की अफवाह किसी को भी नेता बना देती हैं। वह व्यक्ति फिर नेता बने हुए फिरता रहता है। गहलोत का इशारा साफ तौर पर बगैर नाम लिए सचिन पायलट पर ही माना जा रहा है।

सीएम गहलोत ने कहा कि जब हम जैसलमेर में होटल से निकले थे। तब दिल्ली से मैसेज आया कि वे लोग (पायलट गुट के विधायक) जयपुर लौट रहे हैं। तब मैंने तत्काल बयान दिया था कि फॉरगेट एंड फॉरगिव (भूलो और माफ करो)। यह सबके लिए समझने वाली बात थी। मैंने अपनी मंशा साफ कर दी थी, फिर भी अब जो ना समझे, वो अनाड़ी है। गहलोत ने कहा कि मैंने दिल से कहा है कि  भूलो और माफ करो। इसका मतलब यह भी होता है कि मैंने अगर कोई गलती की है, अभी तक जो घटनाक्रम हुआ है तो उसे भूलो और माफ करो। यह सबके लिए कहा था। तब अजय बाबू (माकन) भी हमारे साथ थे।

राजनीतिक नियुक्तियों पर बोले – बार-बार आचार संहिता आ जाती है

राजनैतिक नियुक्तियों और बोर्ड के गठन में हो रही देरी को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि -बार-बार आचार संहिता से सभी परेशान हैं। यह राष्ट्रीय मुद्दा बना हुआ है। इसी वजह से देर हो जाती है। लेकिन अब जल्द ही ये नियुक्तियां होंगी। गहलोत ने कहा कि मुझे दो साल में सबसे ज्यादा पीड़ा बजरी के अवैध धंधे से पहुंची है। यह मामला कोर्ट में इतना उलझ गया है कि चाहकर भी ज्यादा कुछ नहीं हो रहा है।


Share