गहलोत छत्तीसगढ़ के सीएम से मिले, बोले- ‘कोयला नहीं मिलता है तो बिजली संयंत्र बंद होंगे’

Gehlot met Chhattisgarh CM, said- 'If coal is not available then power plants will be closed'
Share

रायपुर (एजेंसी)। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि यदि छत्तीसगढ़ सरकार केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय के गाइलाइंस के अनुसार कोयले की आपूर्ति नहीं करता है तो राज्य के थर्मल पावर प्लांट बंद हो जाएंगे। सीएम गहलोत ने रायपुर में छत्तीसगढ़ के सीए भूपेश बघेल से मुलाकात के बाद मीडिया से बात करते हुए कहा कि राजस्थान  में बहुत सारे थर्मल पावर प्लांट है, जो बिना कोयले के नहीं चल सकते, इसलिए हम छत्तीसगढ़़ में है। केंद्र के दिशा-निर्देशों के तहत हमें कोयला नहीं मिलता है, हमारे बिजली संयंत्र बंद होंगे। सीएम गहलोत ने आज रायपुर में कोयला संकट के समाधान के लिए छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल से मुलाकात की। ऐसा माना जा रहा है कि दोनों राज्यों के बीच गतिरोध बरकरार है। सीएम गहलोत को छत्तीसगढ़ सरकार से कोयला आपूर्ति का ठोस आश्वासन नहीं मिला है।

गहलोत बोले- छत्तीसगढ़ सरकार की स्वीकृति का इंतजार

सीएम गहलोत ने कहा कि कहा कि राजस्थान में बहुत सारे थर्मल प्लांट हैं, जो बिना कोयले के नहीं चल सकते, इसलिए हम छत्तीसगढ़ में हैं, केंद्र के दिशा-निर्देशों के तहत उसी पर परमिट लेने के लिए। अगर हमें कोयला नहीं मिलता है, तो हमारे बिजली संयंत्र होंगे बंद। राजस्थान में थर्मल पावर प्लांट से बिजली पैदा होती है, जो बिना कोयले के नहीं चल सकते। सीएम ने कहा कि अगर छत्तीसगढ़ सरकार से कोयले की आपूर्ति नहीं होती है तो 4500 मेगा वाट बिजली के पावर प्लांट बंद हो जाएंगे। सीएम ने कहा कि राजस्थान की जनता छत्तीसगढ़ सरकार की स्वीकृति का इंतजार कर रही है।

छत्तीसगढ़ के सीएम बोले- गाइडलाइन को पूरा करेंगे : भूपेश बघेल ने कहा कि राजस्थान सरकार द्वारा  कोयले की आपूर्ति को लेकर चिंता व्यक्त की गई। राजस्थान सरकार को जो कोयला खदान मिली है, वो भारत सरकार से मिली है और उस मांग के अनुरूप कार्रवाई की जा रही है। खदान अलाटमेंट के बाद पर्यावरण और गाइडलाइन को भी पूरा करना होता है।छत्तीसगढ़ सरकार ने पर्यावरण और स्थानीय लोगों की मांग से कभी समझौता नहीं किया। इस मामले में नियमानुसार कार्रवाई होगी और नियमानुसार खदानों का संचालन होगा।


Share