राजस्थान में गहलोत सरकार का बड़ा फैसला : अंतिम संस्कार फ्री

भारत में नए कोरोना मामले  6 महीने के निचले स्तर पर आये
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। कोरोना से होने वाली मौतों पर अब aअंतिम संस्कार का पूरा खर्च राजस्थान सरकार उठाएगी। कोरोना से मरने वाले व्यक्ति के शव को अस्पताल से श्मशान-कब्रिस्तान ले जाने के लिए मुफ्त एंबुलेंस या वाहन की सुविधा मिलेगी। शव को अस्पताल से श्मशान-कब्रिस्तान ले जाने से लेकर अंतिम संस्कार (जलाने-दफनाने) में होने वाला पूरा खर्च संबंधित शहरी निकाय उठाएंगे। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसके लिए सभी शहरी निकायों, कलेक्टरों, अस्पतालों को निर्देश जारी कर दिए हैं। हाल ही में जोधपुर उत्तर नगर निगम ने यह व्यवस्था शुरू की है। जिसे अब मुख्यमंत्री ने पूरे प्रदेश की नगर निगमों, नगर परिषदों और नगरपालिकाओं में लागू करने का फैसला किया है। यह व्यवस्था तुरंत प्रभाव से लागू होगी।

सीएम गहलोत ने निर्देश दिए हैं कि पूरे प्रदेश में पार्थिव देह का अस्पताल से श्मशान, कब्रिस्तान तक सम्मानपूर्वक परिवहन सुनिश्चित किया जाए। अस्पताल से पार्थिव देह ले जाने के लिए एंबुलेंस नहीं मिले तो ऐसी हालत में जिला परिवहन अधिकारी के जरिए वाहनों का अधिग्रहण करवाकर व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। पार्थिव देह के निशुल्क परिवहन की जानकारी के लिए हर शहरी निकाय के कंट्रोल रूम के नंबर जारी कर इनका प्रचार प्रसार करने को कहा है। पार्थिव देह को मुफ्त ले जाने के लिए वाहन या एंबुलेंस की व्यवस्था शहरी निकाय के कंट्रोल रूम के अधीन रहेगी।

कंट्रोल रूम में एंबुलेंस के लिए कॉल आने पर उसका पूरा ब्यौरा रजिस्टर में दर्ज कर रिकॉर्ड रखना होगा। इन वाहनों की पूरी लॉग शीट भरी जाएगी।

राजस्थान में लगातार बढ़ रहा है मौतों का आंकड़ा

राजस्थान में कोरोना से होने वाली मौतों का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। शनिवार को कोरोना से 74 मौतें हुई हैं। सरकार ने शहरी इलाकों में अंतिम संस्कार और पार्थिव देह के मुफ्त परिवहन की सुविधा से गरीब लोगों को सुविधा होगी। कई प्रदेशों में शवों को ले जाने की सुविधा नहीं होने और गरीब लोगों के शव रिक्शा में ले जाने के मामले सामने आए थे। राजस्थान सरकार ने कई प्रदेशों से ऐसे मामले सामने आने के बाद यह फैसला किया है।

सुबह 6 से 11 बजे तक खुलेंगे मयखाने

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)।  राजस्थान में कोरोना संक्रमण के बीच शराब पीने के शौकीनों के लिए राहत की खबर है। सरकार ने सोमवार से शुक्रवार तक प्रतिदिन 5 घंटे (सुबह 6 से 11 बजे तक) शराब की दुकानें खोलने की अनुमति जारी की है।  वीकेंड लॉकडाउन शनिवार व रविवार को दुकानें पूरे दिन बंद रहेगी। राज्य सरकार ने शुक्रवार को कोरोना की नई गाइडलाइन जारी करते हुए सख्तियां और बढ़ाई थी। इस गाइडलाइन में प्रदेश की शराब की दुकानों, खनन गतिविधियों और रजिस्ट्रियों के कार्यालयों को खोलने के संबंध में राजस्व विभाग से अलग से आदेश जारी करने का उल्लेख किया था। राजस्व विभाग ने शनिवार को आदेश जारी करते हुए शराब की दुकानों को सब्जियां, परचूनी की दुकान खोलने के लिए दिए समय के अनुसार ही खोलने के आदेश जारी किए है।

दोपहर 2 बजे तक करवा सकेंगे रजिस्ट्रियां

वित्त विभाग से जारी आदेशों के मुताबिक शराब की दुकानों के अलावा रेवेन्यू से जुड़े विभाग मुद्रांक एवं पंजीयन विभाग, परिवहन, वाणिज्यिक कर विभाग, आबकारी विभाग के कार्यालय शाम 4 बजे तक खुले रहेंगे। हालांकि इन कार्यालयों में पब्लिक डिलींग से जुड़े काम दोपहर 2 बजे तक ही होंगे। इसके अलावा खनन से जुड़े सेक्टर पर नाइट कफ्यू लागू नहीं रहेगा, यानी इस सेक्टर को फैक्ट्रियों की श्रेणी का मानते हुए संचालित करने की अनुमति जारी की है।


Share