मंच से लेकर भाषण तक, हर जगह दिखी मोदी : नीतीश की केमिस्ट्री

मंच से लेकर भाषण तक, हर जगह दिखी मोदी
Share

सासाराम (एजेंसी)। बिहार में हो रहे विधानसभा चुनावों के लिए प्रचार अब अपने चरम पर पहुंच चुका है। चुनाव प्रचार में प्र.म. मोदी और राहुल गांधी जैसे देश के बड़े राजनेताओं की एंट्री हो चुकी है। बिहार विधानसभा चुनाव के लिए हो रही चुनावी रैलियों में शुक्रवार को पहली बार नीतीश कुमार और प्र.म. मोदी एक साथ नजर आए। मोदी और नीतीश ने अरसे बाद एक साथ रैली को संबोधित किया। इस दौरान मोदी ने नीतीश के सुशासन की तारीफ की तो नीतीश ने भी केंद्र के कामकाज पर वोट मांगा। एक वक्त में धुर विरोधी रहे दोनों की केमिस्ट्री इस चुनावी सफर में हमसफर वाली दिख रही थी। ये सत्ता के बदलते समीकरण की तस्वीर थी जो लोगों के जेहन में छप चुकी है।

दोनों नेताओं ने एकदूसरे का किया सम्मान

एनडीए के चुनाव प्रचार में जान फूंकने के लिए शुक्रवार को सासाराम पहुंचे प्र.म. मोदी ने बिहार के प्र.म. नीतीश कुमार के साथ मंच साझा किया। इस दौरान दोनों नेताओं के बीच शिष्टाचार भी साफ-साफ नजर आया। मंच पर प्र.म. के आते ही हाथ जोड़कर दोनों नेताओं ने एकदूसरे का अभिवादन किया और जाते वक्त भी ऐसी ही दोनों ने यही प्रक्रिया दोहराई।

मंच पर और भाषण में हर जगह नजर आई केमिस्ट्री

प्र.म. मोदी ने अपने भाषण में कहा, बिहार के उज्जवल भविष्य के लिए हम फिर एक बार नीतीश जी के साथ आए।

वहीं दूसरी ओर नीतीश कुमार भी अपने भाषण के दौरान बार-बार श्रद्धेय नरेंद्र मोदी बोलते रहे और उनके मार्गदर्शन का गुणगान करते रहे। कुल मिलाकर नीतीश और मोदी के बीच आज अच्छी आपसी केमिस्ट्री साफ नजर आई।

इसलिए खास है ये नई केमिस्ट्री

यह बात इसलिए खास हो जाती है क्योंकि करीब सात साल पहले जब भाजपा की तरफ से नरेंद्र मोदी को प्र.म. उम्मीदवार बनाए जाने का ऐलान किया गया था तो इन्हीं नीतीश कुमार ने भाजपा से नाता तोड़ लिया था।

2015 के विधानसभा चुनावों में भी नरेंद्र मोदी नीतीश कुमार के खिलाफ ही चुनाव प्रचार कर रहे थे लेकिन आज मोदी ने खुलकर नीतीश सरकार के लिए वोट मांगे।

प्र.म. मोदी ने दिया साफ संदेश

प्र.म. मोदी ने अपने भाषण में साफ-साफ कहा, बिहार में फिर नीतीश जी की अगुवाई में सरकार बनाना जरूरी है। इस ऐलान से प्र.म. मोदी ने नीतीश के नेतृत्व के खिलाफ चल रही अटकलों का पटाक्षेप कर दिया कि अगर एनडीए की सरकार बनेगी तो अगुवाई नीतीश ही करेंगे। गौरतलब है कि कल असदुद्दीन ओवैसी ने यह बात कही थी कि चुनाव बाद भाजपा नीतीश को सीएम नहीं बनाने वाली है ये एक खुला राज है।

 


Share