स्वतंत्रता दिवस से पहले आतंक से आजादी- कश्मीर में 2 दहशतगर्द पकड़े, बड़ी साजिश नाकाम

आतंकी हमले में सैनिक शहीद, 3 घायल
Share

जम्मू (एजेंसी)। स्वतंत्रता दिवस पहले जम्मू कश्मीर में सुरक्षा बलों ने बड़ी कामयाबी हासिल की है। दो अलग-अलग जगहों पर सुरक्षाबलों ने आतंकी साजिशों को नाकाम कर आतंकवाद से आजादी दिलाई है। एक तरफ किश्तवाड़ में हिजबुल मुजाहिदीन के 2 आतंकियों को सुरक्षा बलों ने दबोचा है तो वहीं पुंछ में बीएसएफ ने बड़ी साजिश को नाकाम किया है। किश्तवाड़ में पकड़े गए आतंकियों के पास से बड़े पैमाने पर हथियार और गोला बारूद भी बरामद किए गए हैं। इसके अलावा पुंछ में सोमवार को एक साजिश नाकाम करते हुए सुरक्षा बलों ने आतंकियों के ठिकाने से बड़े पैमाने पर हथियार बरामद किए हैं।

बीएसएफ के प्रवक्ता ने बताया कि इस जॉइंट ऑपरेशन के तहत पुंछ जिले के सांगड़ गांव में स्थित एक ठिकाने से आतंकियों के हथियारों को बरामद किया गया है। हालांकि मौके से किसी आतंकी को पकड़ा नहीं जा सका है। इन आतंकियों ने गांव के पास स्थित जंगल में अपना ठिकाना बना रखा था। बीएसएफ ने आतंकी ठिकाने से दो एक-47 रायफलें, 4 मैगजीन, एक चीनी पिस्तौल और 10 पिस्तौल मैगजीन भी बरामद की हैं। इसके अलावा विस्फोटक भी मौके से मिला है। बता दें कि बीते दो सालों में सुरक्षा बलों ने अपने अभियान को तेजी दी है। इसी साल अब तक 90 के करीब आतंकियों को सुरक्षा बल ठिकाने लगा चुके हैं।

यही नहीं पड़ोसी राज्य पंजाब में भी आतंकियों की एक नई करतूत सामने आई है। पंजाब पुलिस ने टिफिन बॉक्सों में भरे विस्फोटक और हैंड ग्रेनेड पाकिस्तान की सीमा से लगे गांवों से बरामद होने का दावा किया है। राज्य पुलिस के चीफ दिनकर गुप्ता ने कहा कि पुलिस केंद्रीय एजेंसियों के साथ मिलकर इस मामले पर काम कर रही है। यही नहीं गुप्ता ने संदेह जताया कि आईईडी विस्फोटक और हैंड ग्रेनेड्स को सीमा पार से ग्रेनेड्स के जरिए गिराया गया है। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि आतंकियों की ओर से किसे निशाना बनाया जा सकता था।

भारत-पाक सीमा पर दो संदिग्ध गिरफ्तार

जैसलमेर जिले के भारत पाकिस्तान सीमा पर प्रतिबंधित इलाकों में अवैध रूप से घूमते संदिग्ध कश्मीरी नागरिकों को सेना की खुफिया इकाई ने गिरफ्तार किया है।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि फतेहगढ़ उपखंड के रामा गांव इलाके में दो संदिग्ध युवकों के विचरण करते देखकर सेना की खुफिया इकाई नें उन्हें पकड़ लिया। पूछताछ करने पर वे कश्मीर के निवास निकले। पूछताछ में एक की पहचान शौकत हुसैन के रूप में हुई है। दोनों युवक कश्मीर में पुंछ जिलेे के हैं। इनके पास से 26 हजार रूपये नगद मिले हैं एवं अरबी में लिखे हुए कई दस्तावेज भी मिले हैं जिनकी जांच पड़ताल करवाई जा रही हैं।

इनके पास  दो मोबाईल फोन मिले हैं जिनमें कई संदिग्ध नंबर एवं सऊदी अरब के कुछ नंबर मिले हैं। इन्होने पूछताछ में स्वीकार किया कि वे चंदे के साथ अपने धर्म का प्रचार भी कर रहे हैं।

खुफिया सूत्रो से मिली जानकरी के अनुसार पिछले काफी लंबे समय से बड़े पैमाने पर कश्मीरी युवकों के मदरसों के नाम पर चंदा इक_ा करने के लिए जैसलमेर के सीमावर्ती प्रतिबंधित इलाकों में बेरोकटोक आने का सिलसिला जारी है। इन कश्मीरी युवकों द्वारा धर्मप्रचार के नाम पर अल्पसंख्यक समुदाय में कट्टरता फैलाने की कोशिश करने की भी जानकारियां मिलती रहती हैं। हालांकि जानकारी मिलने पर पुलिस एवं अन्य सुरक्षा एजेन्सियों द्वारा इन्हें वहां से रवाना कर दिया जाता है, लेकिन फिर भी ऐसे संदिग्ध कश्मीरियों का सीमावर्ती इलाकों में आना जारी है।


Share