चिरंजीवी योजना में नि:शुल्क हुई दिल की जटिल सर्जरी , गीतांजलि हॉस्पिटल में 15 वर्ष के बच्चे की एक्मो मशीन के सपोर्ट से बचाई जान

चिरंजीवी योजना में नि:शुल्क हुई दिल की जटिल सर्जरी , गीतांजलि हॉस्पिटल में 15 वर्ष के बच्चे की एक्मो मशीन के सपोर्ट से बचाई जान
Share

उदयपुर (कार्यालय संवाददाता)। मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना प्रदेश के निर्धन परिवारों के रोगियों का जीवन संबल बन रही है। झाड़ोल के एक आदिवासी परिवार के बच्चे की योजना के तहत गीतांजलि मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पीटल में जर्मन तकनीक से एक्मो मशीन के सपोर्ट से उपचार कर जान बचाई गई।  शनिवार को जिला कलक्टर ताराचंद मीणा, चिकित्सा विभाग साझे में निदेशक डॉ.जेड.ए.काजी, गीतांजलि मेडिकल कॉलेज व हॉस्पिटल के निदेशक अंकित अग्रवाल, सीईओ प्रतीम तंबोली व हृदय शल्य चिकित्सक डॉ. संजय गांधी ने जिला परिषद सभागार में प्रेस वार्ता कर इसकी जानकारी दी।

कलक्टर मीणा ने बताया कि चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना इस जनजाति अंचल के निवासियों के लिए वरदान साबित हो रही है। 15 वर्षीय बालक दिनेश पलात हृदय की गंभीर बीमारी से पीडि़त था और सरकार के सहयोग से उपचार निजी चिकित्सालय में नि:शुल्क हुआ। मुख्यमंत्री की पहल पर योजना के माध्यम निरोगी राजस्थान की संकल्पना को साकार किया जा रहा है।  जिलेभर में योजना के तहत साढ़े 6 लाख से अधिक परिवारों का पंजीयन हो चुका है और शेष के लिए जिला प्रशासन द्वारा विभिन्न स्तरों पर प्रयास किए जा रहे हैं।

जीएमसीएच के निदेशक अंकित अग्रवाल ने बताया कि झाड़ोल (फलासिया) ब्लॉक के घोरण पंचायत क्षेत्र निवासी बंशीलाल पलात मजदूरी कर परिवार का जीवन यापन करता है। नौवीं में अध्ययनरत पुत्र दिनेश के दिल के एक वाल्व में बहुत ज्यादा लीकेज का पता चला, मरणासन्न स्थिति में उसे गीतांजलि हॉस्पिटल लाया गया। चिरंजीवी बीमा योजना में 9 जून को नि:शुल्क ऑपरेशन किया गया। राजस्थान में पहली बार हुआ है कि ऑपरेशन के बाद रोगी को तीन दिन तक जर्मन तकनीक के एक्मो मशीन पर रखा गया और ऑपरेशन के बाद आज वह स्वस्थ है। परिजन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का योजना के लिए आभार व्यक्त कर रहे हैं।

रूमेटिक हृदय रोग के ऑपरेशन का पहला मामला

जीएमसीएच के सीईओ प्रतीम तम्बोली ने कहा कि राजस्थान में ऐसा पहली बार हुआ है कि मात्र 15 वर्षीय रोगी जो रूमेटिक हृदय रोग से पीडि़त था, उसका जर्मन की अत्याधुनिक एक्मो मशीन से सफल इलाज हुआ। ये सम्पूर्ण राज्य के लिए कीर्तिमान है। इस प्रकार के गंभीर रोग के ऑपरेशन के बाद अब उदयपुर हार्ट ट्रांसप्लांट के क्षेत्र में भी आगे आ गया है। दिनेश का ऑपरेशन करने वाले हृदय शल्य चिकित्सक डॉ. संजय गांधी ने बताया कि ह तीन दिन एक्मो मशीन के सपोर्ट पर  व टीम की लगातार मॉनिटरिंग के बाद रोगी अब रोगी पूर्णतया स्वस्थ है। बच्चे के पिता बंशीलाल पलात ने कहा कि  वह और उसका परिवार बार-बार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आभार जताता है। शल्य चिकित्सक डॉ संजय गाँधी ने बताया कि अगर चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना नहीं होती तो रोगी के सात से  आठ लाख रूपए इस इलाज में लग जाते। कार्डियक साइंसेज टीम में हृदय शल्य चिकित्सक डॉ. संजय गाँधी, डॉ. अनुभव बंसल, डॉ गुरप्रीत सिंह, कार्डियक एनेस्थेसिस्ट डॉ अंकुर गाँधी, डॉ कल्पेश मिस्त्री, डॉ सुमित तंवरी, डॉ के.चरान, डॉ अर्चना देवतरा, ह्रदय रोग विशेषज्ञ डॉ कपिल भार्गव, डॉ रमेश पटेल, डॉ जय भारत शर्मा, पर्फ्युशनिस्ट प्रदीप हेगड़े, अनीस, नौशीन, सीटी ओटी टीम, सीटीवीएस आईसीयू टीम, स्टेप डाउन टीम के प्रयासों से मरीज की जान बच सकी।


Share