शराब बंदी पर पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के उग्र तेवर, शराब की दुकान पर पत्थर फेंक तोडफ़ोड़ की

Former Chief Minister Uma Bharti's furious attitude on liquor ban, ransacked the liquor shop by throwing stones
Share

भोपाल (एजेंसी)। मध्य प्रदेश में शराब बंदी को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने अब उग्र तेवर अपना लिए हैं और रविवार को बरखेड़ा पठानी में शराब की दुकान के शराब नीति के खिलाफ  होने के बाद भी नहीं हटाए जाने पर नाराजगी दिखाई है। उन्होंने शराब की दुकान के भीतर घुसकर पत्थर उठाकर तोडफ़ोड़ कर दी और उनके इस एक्शन पर भारती समर्थक नारे लगाए। भारती ने इन दुकानों को एक हफ्तेभर के भीतर हटाने की चेतावनी दी है। वहीं, कांग्रेस ने शराब बंदी के लिए इस तरीके को गतत बताया है। पीसीसी अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा से भारती के तरीके की तरह शराब बंदी कराने का अभियान चलाने की अनुमति मांगी है।

शराब बंदी को लेकर पिछले कुछ महीने से पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती लगातार तारीखें दे रही थीं लेकिन इसके बाद भी शराब नीति के खिलाफ स्थापित दुकानों को नहीं हटाया जा रहा था। पिछले दिनों वे गुनगा की एक शराब दुकान पर पहुंची थी जो तरावली मंदिर के पास थी और उसे हटाने की मांग की थी। इसके बाद आज वे बरखेड़ा पठानी की एक शराब दुकान पर पहुंची जहां लोगों से मिलीं। उनसे दुकान के बारे में पूछा। उन्होंने बताया कि वे कई बार शराब की दुकान को हटाने के लिए जिला प्रशासन को कह चुके हैं। इसके बाद भी आज तक दुकान को नहीं हटाया गया है।

गुस्सा फूटा, पत्थर फेंका, सोशल मीडिया पर वीडियो पोस्ट की

पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती क्षेत्रीय लोगों की शिकायत सुनने के बाद अपने गुस्से को रोक नहीं पाईं और उन्होंने एक पत्थर उठाकर शराब की दुकान के भीतर जाकर तोडफ़ोड़ कर दी। इसका उन्होंने वीडियो बनवाया और अपने ट्विटर हैंडल से पोस्ट कर दिया। ट्विटर पर उमा भारती ने लिखा है कि बरखेड़ा पठानी आझाद नगर, बीएचईएल भोपाल , यहां मजदूरों की बस्ती में शराब की दुकानों की शृंखला हैं जो कि एक बड़े आहाता में लोगों को शराब परोसते हैं। मजदूरों की पूरी कमाई इन दुकानो में फूक जाती हैं। यहां के निवासियों एवं महिलाओं ने आपत्तियां की, विरोध में धरने दिए क्योंकि यह दुकान सरकारी नीति के खिलाफ हैं। भारती ने आगे लिखा है कि इन दुकानों को बंद करने के लिए हर बार प्रशासन ने आश्वासन दिया लेकिन कई साल हो गए यह आज तक नहीं हो पाया।


Share