प्रमुख के लिए भाजपा को दूसरी बार बहुमत, हाथ से फिसली कई प्रमुख पंचायत समितियां

हाथ से फिसली कई प्रमुख पंचायत समितियां
Share

उदयपुर (प्रासं)। पंचायती राज चुनाव में जिला परिषद पर एक बार फिर से भाजपा का कब्जा हो गया। इस चुनाव में जिला परिषद के कुल 43 सीटों मेें से भाजपा ने 27 पर, कांग्रेस ने 15 पर और जनता सेना ने 1 सीट पर विजय हासिल की है।

जिला परिषद के इस चुनाव ने भाजपा के कई दिग्गजों को धूल चटा दी और कई जगहों पर नए प्रत्याशियों ने जबरदस्त प्रदर्शन किया। इधर कुछ ऐसी ही स्थित कांग्रेस में भी रही, कांग्रेस में भी कई दिग्गज बुरी तरह से धूल चाटते हुए नजर आए और वहीं कांग्रेस के कई नए प्रत्याशियों ने अच्छा प्रदर्शन किया। सबसे बड़ी बात यह इस चुनाव में निवर्तमान जिला प्रमुख शांतिलाल मेघवाल को भी हार का सामना करना पड़ा और निवर्तमान गिर्वा प्रधान तखतसिंह शक्तावत को भी हार का सामना करना पड़ा। वहीं कांग्रेस में भी देहात महिला जिलाध्यक्ष सीमा चोरडिया सहित दिग्गज नेताओं को हार का सामना करना पड़ा।

जिले में हुए पंचायत चुनाव मेें मंगलवार को मतगणना थी। सुविवि के आट्र्स कॉलेज और फतहस्कूल में दो चरणों में मतगणना हुई। पहले चरण में सुबह 8 बजे से दोपहर को 2 बजे तक पंचायत समिति सदस्यों के लिए मतगणना का दौर चला और दोपहर को तीन बजे से देर शाम तक जिला परिषद सदस्यों के लिए मतगणना का दौर चला। जिला परिषद की मतगणना में शुरू से ही भाजपा प्रत्याशी भारी पड़ते हुए नजर आ रहे थे। भाजपा कई भाजपा प्रत्याशी शुरू से ही बढ़ता बनाए हुए थे और लगातार बढ़त बनाए जा रहे थे। मतगणना शुरू होने के करीब एक घंटे बाद रिजल्ट आना शुरू हो गए। कुछ ही देर में स्पष्ट हो गया कि जिला परिषद में एक बार फिर से भाजपा का बोर्ड बनने जा रहा है। इधर भाजपा नेता भी उत्साहित नजर आए। फतहस्कूल में बना मतगणना स्थल में शाम को 5.30 बजे तक स्थिति स्पष्ट हो गई थी। (शेष पृष्ठ ८ पर)

यहां पर 12 जिला परिषद सीटों के लिए मतगणना थी और जिनमें से 8 पर भाजपा का और 4 पर कांग्रेस के प्रत्याशी विजय घोषित  कर दिया गया। वहीं आट्र्स कॉलेज में हुई मतगणना में मंगलवार देर शाम तक परिणाम आते गए और शाम तक स्थिति स्पष्ट हो गई। देर शाम को हुई स्थिति में 27 में भाजपा, 15 में कांगेे्रस और 1 पर जनता सेना कब्जा हुआ। इस तरह से इस बार भी जिला परिषद पर भाजपा का बोर्ड बनेगा और इसके लिए तैयारियां शुरू कर दी है। जिला परिषद के इस चुनाव में कई नेताओ को मुहं की खानी पड़ी है। भाजपा में निवर्तमान जिला प्रमुख शांतिलाल मेघवाल को करारी हार का सामना करना पड़ा है। वहीं निवर्तमान गिर्वा प्रधान तखतसिंह शक्तावत भी अपनी सीट को नहीं बचा पाए। इस चुनाव में भाजपा के कई चेहरे सामने आए है। भाजपा देहात जिलाध्यक्ष भंवरसिंह पंवार की पुत्री ममता कुंवर चुनाव जीती है और इसी तरह पूर्व जिला उप प्रमुख सुंदरलाल भाणावत की पुत्रवधू रीना भाणावत भी चुनाव जीती है। वहीं भाजपा के पूर्व खेरवाड़ा विधायक नानालाल अहारी का पुत्र सोनू अहारी को करारी हार का सामना करना पड़ा है।

इधर कांग्रेस में देखा जाए तो देहात महिला जिलाध्यक्ष सीमा चोर्डिया को भी करारी हार का सामना करना पड़ा। इसी तरह पूर्व देहात महिला जिलाध्यक्ष कामिनी गुर्जर भी चुनाव जीती है। इसी तरह कांग्रेस से वर्तमान सरपंच भंवर पुष्करना की पत्नी सरस्वती देवी भी चुनाव हारी है और करारी हार का सामना करना पड़ा है। इसी तरह से भाजपा के मण्डल अध्यक्ष शंकरलाल पटेल ने भी चुनाव जीता है। अब भाजपा मेंं जिला प्रमुख के लिए दौड़ शुरू हो गई है।


Share