पहले दिन लोकसभा में – 359 सदस्यों ने भाग लिया

पहले दिन लोकसभा में - 359 सदस्यों ने भाग लिया
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए 25 मार्च से देशभर में लागू किए गए 68 दिनों के लॉकडाउन में कितने प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई? इसके जवाब में केंद्र सरकार ने संसद को बताया है कि इसका कोई आंकड़ा उपलब्ध नहीं है। लॉकडाउन की वजह से लाखों मजदूरों ने शहरों से गांवों की ओर पलायन किया था, जिनमें से कई की मौत रास्ते में अलग-अलग वजहों से हो गई थी।

लोकसभा में सवाल किया गया था कि क्या सरकार इस वाद से अवगत है कि घरों को लौटते हुए कई मजदूरों की रास्ते में मौत हो गई और क्या राज्यवार मृतकों की संख्या उपलब्ध है? यह भी पूछा गया कि क्या पीडि़तों को सरकार ने कोई मुआवजा या आर्थिक सहायता दी?

केंद्रीय श्रम और रोजगार मंत्रालय ने इसके जवाब में कहा कि मृतकों की संख्या को लेकर कोई डेटा उपलब्ध नहीं है। मंत्रालय ने कहा कि चूंकि इस तरह का डेटा नहीं जुटाया गया था |


Share