टेस्ट में 700 विकेट लेने वाले पहले गेंदबाज, वल्र्ड कप सेमीफाइनल और फाइनल के मैन ऑफ द मैच

टेस्ट में 700 विकेट लेने वाले पहले गेंदबाज, वल्र्ड कप सेमीफाइनल और फाइनल के मैन ऑफ द मैच
Share

सिडनी (एजेंसी)। इस सदी की शुरूआत में ऑस्ट्रेलिया को दुनिया की सबसे शक्तिशाली क्रिकेट टीम बनाने के पीछे जिस एक खिलाड़ी का सबसे बड़ा रोल था वह थे शेन वॉर्न। उनकी लेग स्पिन, गुगली और फिलिपर का सामना करना अच्छे से अच्छे बल्लेबाजों के लिए भी मुश्किल होता था। सिर्फ 52 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कहने वाले वॉर्न क्रिकेट ग्राउंड पर अपने शानदार प्रदर्शन के लिए हमेशा याद किए जाएंगे।

600 और 700 विकेट के माइलस्टोन तक पहुंचने वाले पहले गेंदबाज : शेन वॉर्न टेस्ट क्रिकेट में 600 और 700 विकेट के माइलस्टोन तक पहुंचने वाले दुनिया के पहले गेंदबाज बने थे। उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ 2005 में ओल्ड ट्रैफर्ड टेस्ट में 600 विकेट पूरे किए थे। 2006 में इंग्लैंड के ही खिलाफ मेलबर्न में वॉर्न ने 700 विकेट का आंकड़ा भी पार कर लिया। बाद में श्रीलंका के दिग्गज ऑफ स्पिनर मुथैया मुरलीधरन ने उनका रिकॉर्ड तोड़ा। मुरली ने 800 विकेट लिए। वॉर्न आज भी सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले लेग स्पिनर हैं। 619 विकेट के साथ भारत के अनिल कुंबले दूसरे नंबर पर हैं।

इंग्लैंड के लिए अबूझ पहेली बने रहे वॉर्न : टेस्ट क्रिकेट में वॉर्न को सबसे ज्यादा कामयाबी इंग्लैंड के खिलाफ मिली। अंग्रेजों के खिलाफ वॉर्न ने 36 टेस्ट में 23.25 की औसत से 195 विकेट लिए। उन्होंने न्यूजीलैंड (103) और साउथ अफ्रीका (130) के खिलाफ भी 100 से ज्यादा विकेट लिए। हालांकि भारत के खिलाफ उनका प्रदर्शन हमेशा फीका रहा। भारत के सामने वॉर्न 14 टेस्ट में सिर्फ 43 विकेट ले पाए।

1999 में वल्र्ड कप के सेमीफाइनल और फाइनल में मैन ऑफ द मैच : शेन वॉर्न वनडे क्रिकेट में भी बेहद असरदार गेंदबाज रहे। 1999 वल्र्ड कप में ऑस्ट्रेलिया को चैंपियन बनाने में वॉर्न ने अहम भूमिका निभाई थी। वे इस टूर्नामेंट में ऑस्ट्रेलिया के दो सबसे अहम मैच सेमीफाइनल (विरूद्ध साउथ अफ्रीका) और फाइनल (विरूद्ध पाकिस्तान) में मैन ऑफ द मैच चुने गए थे।

शतक नहीं बनाने का रहा मलाल : वॉर्न चैंपियन लेग स्पिनर होने के साथ-साथ लोअर ऑर्डर के अच्छे बल्लेबाज भी थे। उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 3154 रन भी बनाए। इसमें 12 अर्धशतक शामिल हैं। हालांकि वे एक भी शतक नहीं जमा पाए और इसका उन्हें आजीवन मलाल रहा। टेस्ट में वॉर्न का उच्चतम स्कोर 99 रन रहा।


Share