मावली-मारवाड़ रेल के इंजन में आग

Fire in engine of Mavli-Marwar railway
Share

चार घंटे बाद दूसरे इंजन से रवाना हुई ट्रेन > तकनीकी खराबी के चलते लगी आग > रेलकर्मियों ने बड़ी मशक्कत के बाद बुझाई आग

देवगढ़ (प्रात:काल संवाददाता)। मावली से मारवाड़ जाने वाली रेल के इंजन में तकनीकी खराबी के चलते देवगढ़-कामलीघाट के बीच सोमवार सुबह 11 बजे अचानक आग लग गई जिसे रेलकर्मियों ने बड़ी मशक्कत के बाद बुझाई। इधर इंजन में आग लगने के बाद पावर (इंजन) फेल हो गया जिससे रेल बीच रास्ते में ही 4 घण्टे खड़ी रही। बाद में दूसराइंजन के आने के बाद दोपहर में करीब 3.40 बजे मारवाड़ के लिए रवाना किया गया।

जानकारी के अनुसार मावली से चलकर मारवाड़ जाने वाली रेल सोमवार सुबह करीब सवा 11 बजे देवगढ़ पहुँची। देवगढ़ से सवारियों को उतारकर यहां से रवाना होकर जैसे ही कामलीघाट चौराहे से पहले दो किलोमीटर दूर पहुँची की चलती हुई रेल के इंजन के आगे के हिस्से से अचानक धुंआ उठने लगा और देखते ही देखते आग की लपटें निकलने लग गई। धुंआ देखते ही लोको पायलट (चालक) रामसिंह ने सूझ-बूझ दिखाते हुए ट्रेन को तुरंत ही रोक दी। ट्रेन के खड़ी होते ही ट्रेन गार्ड गगन शर्मा, सह लोको पायलट, यात्रियों के साथ आसपास के लोग भी इंजन के पास पहुँच गए। आग लगने से रेलयात्रियों एवं अन्य लोगों मे हड़कंप मच गया। इसके बाद रेल स्टाफ ने तुरंत अग्निशामक यंत्र का उपयोग कर आग पर कुछ देर बाद काबू पा लिया।

आग लगने से रेल का इंजन फैल हो गया जिससे ट्रेन वही रुकी रही। रेल स्टाफ ने इस पूरे मामले की रिपोर्ट अपने उच्चाधिकारियों को दी जिस पर मावली से दूसरा इंजन रवाना किया गया। कामलीघाट स्टेशन अधीक्षक रामसहाय मीणा ने बताया कि तकनीकी खराबी के चलते कामलीघाट चौराहे के समीप मावली-मारवाड़ रेल के इंजन में आग लग गई थी जिससे इंजन फैल हो गया और इससे दोनों ट्रेनें लेट हो गई। मीणा ने बताया कि मारवाड़ से मावली जाने वाली रेल के कामलीघाट पहुँचने के बाद उसके इंजन से दोपहर करीब 3.20 बजे रास्ते में खड़ी रेल को करीब साढ़े 4 घण्टे बाद कामलीघाट स्टेशन पर लाया गया और कामलीघाट से रेल को 3.40 बजे मारवाड़ के लिए रवाना किया गया। साथ ही मावली से यहां पहुँचे दूसरे इंजन से मावली जाने वाली रेल को डेढ़ घण्टे देरी से रवाना किया गया।


Share