ग्रेटा के खिलाफ एफआईआर – पुलिस ने दर्ज किया केस

ग्रेटा के खिलाफ एफआईआर - पुलिस ने दर्ज किया केस
Share

नई दिल्ली/नार्वे (एजेंसी)। ग्रेटा थनबर्ग ने अपने खिलाफ दिल्ली पुलिस की एफआईआर के बाद फिर किसान आंदोलन का समर्थन किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि मैं अब भी किसानों के साथ खड़ी हूं और उनके शांतिपूर्वक विरोध का समर्थन करती हूं। नफरत, धमकी या मानवाधिकारों के उल्लंघन इसे बदल नहीं सकता है।

आपराधिक षड्यंत्र और सामाजिक सौहार्द बिगाडऩे का आरोप

दिल्ली पुलिस ने ग्रेटा थनबर्ग पर आपराधिक षड्यंत्र और सामाजिक सौहार्द बिगाडऩे का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज किया था। स्वीडन की रहने वाली थनबर्ग पर आईपीसी के कई सेक्शन तहत एफआईआर दर्ज की गई है। दिल्ली पुलिस ने ग्रेटा के खिलाफ उनके कई ट्वीट्स पर संज्ञान लिया है, जिन्हें भड़काऊ करार दिया जा रहा है।

थनबर्ग ने क्या किया था ट्वीट

ग्रेटा थनबर्ग ने मंगलवार को ट्वीट किया ता कि हम भारत में किसानों के आंदोलन के प्रति एकजुट हैं। उन्होंने इसके साथ ही सीएनएन की एक खबर टैग की जिसका शीर्षक था, ‘प्रदर्शनकारी किसानों और पुलिस में झड़प के बीच भारत ने नयी दिल्ली के आसपास इंटरनेट सेवा बंद की।‘ इतना ही नहीं, एक अन्य ट्वीट में उन्होंने किसान आंदोलन को लेकर एक कथित दस्तावेज भी शेयर की थी, जिसमें आंदोलन के समर्थन की प्लानिंग लिखी हुई थी।

भारत विरोधी दस्तावेज किया था ट्वीट

ग्रेटा ने अपने ट्वीट में भारत विरोधी एक दस्तावेज भी ट्वीट किया था, जिसमें मोदी सरकार और भारत के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एजेंडा चलाने की प्लानिंग लिखा हुई थी। इसमें लोगों से ज्यादा से ज्यादा संख्या में आंदोलन में शामिल होने और फोटो-वीडियो को शेयर करने के लिए कहा गया था। इतना ही नहीं, सोशल मीडिया प्लेटफार्म्स पर इसके जरिए एक डिजिटल स्ट्राइक करने की भी योजना बनाई गई थी। भारत सरकार पर दबाव कैसे बनाया जाए इसकी भी प्लानिंग की गई थी।


Share