कांग्रेस पर वित्तीय संकट : देशभर में पार्टी की संपत्तियों का ब्योरा तैयार करने का आदेश

कांग्रेस पर वित्तीय संकट : देशभर में पार्टी की संपत्तियों का ब्योरा तैयार करने का आदेश
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कांग्रेस 2014 से केंद्र की सत्ता से बाहर है। वह गंभीर राजनीतिक संकट से गुजर रही है। यही नहीं, उस पर वित्तीय संकट के बादल भी छाए हुए हैं। इसी को देखते हुए उसने प्लान बनाया है। इसके तहत राज्य इकाइयों को पार्टी की सभी संपत्तियों का ब्योरा तैयार करने के लिए कहा गया है। ये प्रॉपर्टियां पूरे देश में फैली हैं। उसे इन संपत्तियों पर अवैध कब्जा होने का डर है। साथ ही पार्टी को यह भी आशंका है कि कहीं इन संपत्तियों पर टैक्स डिफॉल्ट न हो जाए। सूत्रों की मानें तो इन संपत्तियों को डेवलप करके पार्टी राजनीतिक गतिविधियों के लिए रूपये-पैसे का बंदोबस्त करना चाहती है। वह नहीं चाहती है कि इसके लिए किसी भी तरह से फंडों की कमी हो।

कांग्रेस ने राज्य इकाइयों को ‘संपत्ति प्रभारी’ के तौर पर वरिष्ठ सदस्य को नियुक्त करने के लिए कहा है। वो खरीदी या लीज पर ली गईं कांग्रेस की संपत्तियों और उन पर प्रॉपर्टी टैक्स या लीज अमाउंट के स्टेटस का मिलान करेंगे। उन्हें यह भी पता लगाना है कि कोर्ट में उसकी ऐसी किन संपत्तियों के साथ टाइटल डिस्प्यूट का मामला है। या फिर पार्टी की किन संपत्तियों पर अवैध कब्जा हो गया है।

इस बारे में एआईसीसी के ट्रेजरर पवन बंसल ने पीसीसी और राज्य प्रभारियों को निर्देश जारी किए हैं। ये निर्देश एक पखवाड़े पहले जारी हुए हैं। इसमें इस मसले पर तुरंत कदम उठाने के लिए कहा गया है।

जिला से लेकर ब्लॉक स्तर तक फैली हैं संपत्तियां

कांग्रेस देश की सबसे पुरानी पार्टी है। देशभर में उसकी संपत्तियां फैली हैं। ये जिला से लेकर ब्लॉक स्तर तक हैं। पार्टी में इस बात की चिंता है कि जमीन के बड़े हिस्से पर कब्जा हो सकता है। इसमें पार्टी के कुछ नेताओं की मिलीभगत भी हो सकती है।

2014 में केंद्र की सत्ता से बेदखल होने के बाद कांग्रेस गंभीर राजनीतिक संकट से गुजर रही है। उस पर वित्तीय संकट के बादल भी छाए हुए हैं। फोकस की कमी के कारण प्रॉपर्टी के कंसोलिडेशन के विचार पर भी आगे नहीं बढ़ा जा सका। इसके बारे में सबसे पहले 2015 में सोचा गया था। हालांकि, पूरी प्रक्रिया पर नजर रखने के लिए सदस्यों की नियुक्ति 2020 में हो पाई थी। इसके बाद कोरोना ही आ गया था।

विवादित जमीनों पर कानूनी लड़ाई करेगी तेज

सूत्रों की मानें तो जमीनों की पहचान कर इन्हें विकसित किया जा सकता है। इसका मकसद राज्य इकाइयों को पैसे की कमी न होने देना है। हालांकि, पार्टी ऐसा तभी कर पाएगी जब सभी प्रॉपर्टी टैक्स चुकता हों।

सूत्रों के अनुसार, पार्टी की जिन प्रॉपर्टियों पर विवाद, वह उन्हें लेकर कानून लड़ाई में तेजी लाएगी। इन्हें कब्जे से मुक्त कराने के लिए वह राज्य प्राधिकरणों का भी सहारा लेगी। पवन बंसल ने राज्य इकाइयों को ये भी निर्देश दिए हैं कि वो कांग्रेस अध्यक्ष की अनुमति के बगैर पार्टी की किसी संपत्ति के अधिकारों को न तो ट्रांसफर करेंगे न ही उन्हें बेचेंगे।


Share