वित्त मंत्री ने दी संसद में जानकारी- मोदी-माल्या की संपत्ति बेच 13109 करोड़ जुटाए

Finance Minister gave information in Parliament - raised 13109 crores by selling the assets of Modi-Mallya
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कारोबार के नाम पर बैंकों से लोन लेकर विदेश भाग गए हीरा कारोबारी नीरव मोदी और किंगफिशर एयरलाइंस के मालिक विजय माल्या पर सरकार की सख्ती जारी है।

केंद्र सरकार ने कहा है कि विजय माल्या और नीरव मोदी की संपत्ति बेचकर 13000 करोड़ रू. से अधिक की रिकवरी की गई है। देश के कई बैंकों से हजारों करोड़ रू. की धोखाधड़ी करके दोनों कारोबारी विदेश में रह रहे हैं। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को लोकसभा में कहा कि विजय माल्या और नीरव मोदी की संपत्ति बेचकर 13109 करोड़ रू. जुटा ली है। सीतारमण ने कहा कि बैंकों ने अब तक इन दोनों भगोड़े डिफॉल्टर की संपत्ति बेचकर यह रकम हासिल की है। प्रवर्तन निदेशालय की तरफ से इस साल जुलाई में ही विजय माल्या और नीरव मोदी से की संपत्ति बेचकर की गई रिकवरी के बारे में जानकारी दी थी, लेकिन वित्त मंत्री ने संसद में आधिकारिक जानकारी आज दी है।

माल्या ने लिया 9000 करोड़ का लोन

अगर बात शराब कारोबारी विजय माल्या की करें तो यूनाइटेड ब्रेवरीज के मालिक के रूप में विजय माल्या ने कई बैंकों से 9000 करोड़  रू. का लोन लिया था। बैंकों का आरोप है कि लोन की रकम और ब्याज अब तक नहीं चुकाया गया है।

नीरव मोदी पर 13,000 करोड़ बकाया

अगर हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी की बात करें तो उन्होंने पीएनबी समेत कई बैंकों से 13000 करोड़ रू. से अधिक की धोखाधड़ी की थी।

नीरव को अक्टूबर में लगा था झटका

भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी को अमेरिका की एक बैंकरप्सी कोर्ट ने जोरदार झटका दिया था। भारत के भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की याचिका अमेरिकी कोर्ट ने खारिज कर दी थी। नीरव मोदी और उसके दो सहयोगियों ने कोर्ट में याचिका दायर कर मांग की थी कि उनके खिलाफ लगे फर्जीवाड़े के आरोप को खारिज किया जाए।

कहां है मेहुल चोकसी? : चोकसी इस साल जुलाई महीने में डोमिनिका की अदालत से जमानत मिलने के बाद एंटीगा और बरबुडा में रह रहा है। भारत से फरार होने के बाद चोकसी ने 2018 में एंटीगा की नागरिकता ली थी। उसे इस साल 23 मई को डोमिनिका में कथित तौर पर अवैध रूप से प्रवेश करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था, हालांकि 51 दिन तक वहां हिरासत में रहने के बाद उसे जमानत मिल गई थी।


Share