अलवर में एसी के गोदाम में भीषण आग, 50 करोड़ के 44 हजार एसी कबाड़ बने

Fierce fire in AC godown in Alwar, 44 thousand AC junk worth 50 crores made
Share

अलवर (कार्यालय संवाददाता)। अलवर के नीमराणा इंडस्ट्रियल एरिया में आग से डाइकिन कंपनी के एयर कंडीशनर (एसी) का वेयर हाउस तबाह हो गया। आग इतनी भयंकर थी कि गोदाम पूरी तरह पिघल गया। आग से 50 करोड़ के एसी कबाड़ बन गए। आग पर काबू तो पा लिया गया, लेकिन इंडस्ट्रियल एरिया अब भी धुंए से लिपटा हुआ है। खास बात यह है कि जापानी दूतावास ने जयपुर में मुख्यमंत्री निवास को आग की सूचना दी, तब जाकर प्रशासन सक्रिय हुआ।

इस वेयर हाउस के हालात ये हैं कि यहां अब कुछ नहीं बचा। मैनेजमेंट की ओर से दावा किया जा रहा है कि यहां करीब 22 हजार रष्ट और 22 हजार कंप्रेसर थे, जो पूरी तरह से जलकर खाक हो चुके हैं। आग की शुरूआती वजह शॉर्ट सर्किट बताई जा रही है।

सोमवार रात को लगी आग, तेजी से फैली

सोमवार रात करीब 9 बजे अचानक से वेयर हाउस में आग लग गई। घटना के दौरान वहां 15 कर्मचारी काम कर रहे थे। सूचना मिलते ही फायर ब्रिगेड मौके पर पहुंची, लेकिन आग इतनी बढ़ चुकी थी उस पर काबू पाना मुश्किल हो रहा था। बताया जा रहा है कि डाइकिन कंपनी ने यहां दूसरी फर्म सिम सिंक्रोनाइज कंपनी से वेयरहाउस लिया हुआ था। पूरा माल कंपनी की ओर से इंश्योर्ड था। घटना की जानकरी मिलने के बाद सुबह जापानी कंपनी डाइकिन के प्रतिनिधि मौके पर पहुंचे।

जापानी दूतावास से सीएम हाउस को कॉल, तब पहुंचे कलेक्टर और एसपी

डाइकिन जापानी कंपनी है। इंडस्ट्रीयल एरिया में अधिकांश जापानी कंपनी के प्लांट और वेयर हाउस बने हुए है। इसे जापानी जोन भी कहा जाता है। रात में जब आग पर काबू पाने के हालात नहीं बने तो इंडस्ट्री से जुड़े लोगों ने इसकी जानकारी जापानी दूतावास को दी। वहां से रात में सीएमआर में कॉल कर इस हादसे की जानकारी दी गई। इसके बाद प्रशासन अलर्ट हुआ और देर रात अलवर कलेक्टर नन्नू मल पहाडिय़ा और एसपी राममूर्ति जोशी मौके पर पहुंचे। दोनों अधिकारी करीब 3 घंटे तक यहां रूके रहे।

हरियाणा-जयपुर से बुलानी पड़ी फायर ब्रिगेड

रात 12 बजे तक आग विकराल रूप ले चुकी थी। आग इतनी भयंकर थी कि 7 किलोमीटर दूर तक इसकी लपटें दिखाई दी। अधिकारियों के मौके पर पहुंचने के बाद आस-पास की फायर ब्रिगेड को बुलाया गया। यहां तक कि हरियाणा और जयपुर से भी फायर ब्रिगेड को बुलाया गया, लेकिन हालात बेकाबू होते जा रहे थे। दोपहर 12 बजे तक आग पर जैसे-तैसे काबू पाया गया लेकिन वेयर हाउस में हल्की-हल्की आग सुलग रही थी।

एसी की केवल जली हुई बॉडी बची : जब आग पर काबू पाया गया तो वहां के हालात देख हर कोई चौंक गया। 3 बीघा में फैला वेयरहाउस पूरी तरह से तबाह हो चुका था। यहां एसी ऐसे बिखरे हुए थे जैसे कोई कबाड़ का गोदाम हो। अंदर रखी मशीनें और कुछ गाडिय़ां भी नहीं बची। एसी की केवल जली हुई बॉडी चारों तरफ दिखाई दे रहीं थी। कंपनी के एमडी ने बताया कि उन्हें करीब 50 करोड़ का नुकसान हुआ है। आग कैसे लगी इसकी जांच की जाएगी। सुबह कई जापानी कंपनी के प्रतिनिधि भी मौके पर पहुंचे।


Share