भारत बंद के दौरान सिंघू सीमा पर किसान की मौत

भारत बंद के दौरान सिंघू सीमा पर किसान की मौत
Share

किसानों द्वारा सोमवार को भारत बंद का आह्वान किए जाने के बाद प्रदर्शनकारी विभिन्न जगहों पर बैठे नजर आ रहे हैं। वहीं, एक किसान की मौत की खबर है।

हरियाणा के सिंघू बॉर्डर पर किसान आंदोलन के दौरान एक किसान की मौत होने का पता चला है। पुलिस के मुताबिक किसान की मौत हार्ट अटैक से हुई है। पुलिस ने बताया कि पोस्टमार्टम के बाद अधिक जानकारी मिल सकेगी।

इस बीच, किसानों के मुद्दों को चर्चा के माध्यम से हल किया जा सकता है। हालांकि इसके लिए दोनों तरफ से कोई शर्त नहीं लगाई जानी चाहिए। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा है कि हमें इन सवालों का जवाब खुली चर्चा के जरिए खोजने की कोशिश करनी चाहिए। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और राहुल गांधी ने किसान आंदोलन को अपना समर्थन दिया है।

इस बीच, प्रदर्शनकारियों ने हरियाणा के बहादुरगढ़ रेलवे स्टेशन की पटरियों पर भी डेरा डाल दिया।  किसान रेलवे ट्रैक पर धरना दे रहे हैं।

केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ कई महीनों से प्रदर्शन कर रहे किसानों ने आज भारत बंद का आह्वान किया है। इस भारत बंद में किसानों के कई हाईवे जाम हो गए हैं, साथ ही रेलवे भी जाम हो रहा है। सप्ताह के पहले दिन सोमवार को और काम के पहले दिन दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर भारी ट्रैफिक जाम रहता है।  हाईवे पर सैकड़ों वाहनों की लंबी कतारें लगी हुई हैं।  आक्रोशित किसानों ने सुबह से ही सड़क जाम कर दिया है। इस बीच किसानों ने गाजीपुर बॉर्डर पर दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे को भी बंद कर दिया है। इस बीच हरियाणा के सिंघू बॉर्डर पर किसान आंदोलन के दौरान एक किसान की मौत हो गई।

भारत बंद के दौरान सिंघू सीमा पर एक किसान की मौत हो गई।  पुलिस के मुताबिक किसान की मौत हार्ट अटैक से हुई है। पुलिस ने बताया कि पोस्टमार्टम के बाद अधिक जानकारी मिल सकेगी। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि किसानों के मुद्दों को बातचीत से सुलझाया जा सकता है।

किसानों के आंदोलन से दिल्ली-अमृतसर राष्ट्रीय राजमार्ग भी बंद

भारत बंद होने से नागरिकों को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। हरियाणा के कुरुक्षेत्र के शाहाबाद इलाके में प्रदर्शन कर रहे किसान भी गुस्से में हैं।किसानों को बीच सड़क पर गद्दे फेंकते और सड़क जाम करते देखा जा सकता है। किसानों के आंदोलन के चलते दिल्ली-अमृतसर राष्ट्रीय राजमार्ग भी बंद कर दिया गया है।किसानों के आंदोलन के चलते इस मार्ग पर ट्रकों की लंबी कतारें नजर आ रही हैं। इस बीच, भारत में किसानों की हड़ताल के मद्देनजर दिल्ली, गाजियाबाद और नोएडा पुलिस ने पहले ही डायवर्जन रूट जारी कर दिए हैं।

भारतीय किसान संघ के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा, ‘हम अगले दस साल तक भी आंदोलन के लिए तैयार हैं।’ टिकैत ने आगे कहा कि केंद्रीय कृषि मंत्री उन्हें चर्चा के लिए आने के लिए आमंत्रित कर रहे हैं। लेकिन, हम कृषि मंत्री से पूछना चाहते हैं, सरकार हमें समय और स्थान बताए। लेकिन केंद्र सरकार ऐसा नहीं करेगी।  वे सिर्फ बात करते हैं लेकिन करते कुछ नहीं। सरकार को हमें बिना शर्त चर्चा के लिए बुलाना चाहिए। 10 साल लग जाएं तो भी हम तैयार हैं, लेकिन हम अपनी मांगों से पीछे नहीं हटेंगे। साथ ही, बंद के दौरान एम्बुलेंस, डॉक्टरों और आपातकालीन सेवाओं से जुड़े अन्य लोगों को नहीं रोका जाएगा।


Share